पराली जलाने से बढ़ सकते हैं कोरोना के केस! रोक लगाने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका

हरियाणा, पंजाब में पराली जलाने का सिलसिला शुरू हो चुका है.
हरियाणा, पंजाब में पराली जलाने का सिलसिला शुरू हो चुका है.

stubble burning in Punjab, Haryana, UP amid COVID-19 : हाईकोर्ट में याचिका दायर करते हुए कहा गया है कि वर्तमान में व्यापक कोविड-19 की मौजूदा स्थिति में इमरजेंसी मामलों की संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की जा सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2020, 9:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश (Punjab, Haryana, Uttar Pradesh) में पराली को जलाए जाने का मामला दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High court) पहुंच गया है. दिल्ली हाईकोर्ट में पराली जलाने (Stubble burning) पर रोक लगाने के लिए एक याचिका दायर की गई है. हाईकोर्ट में दायर याचिका में कहा गया है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के इस दौर में पराली जलाने से रोकने के लिए तत्काल कदम उठाए जाए जानें चाहिए.

याचिका में इन तीन राज्यों में विशेषज्ञ टीमों को भेजने के लिए दिशा-निर्देश भी मांगे गए हैं, ताकि पराली के जलने पर अंकुश लगाने के लिए प्रभावी उपाय लागू किए जा सकें. हाईकोर्ट में याचिका दायर करते हुए कहा गया है कि वर्तमान में व्यापक कोविड-19 की मौजूदा स्थिति में इमरजेंसी मामलों की संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की जा सकती है.

प्रतिरक्षा प्रणाली होती है कमजोर
दिल्ली हाईकोर्ट में दायर की इस याचिका को वायु प्रदूषण से संबंधित 2015 के मामले के साथ स्थानांतरित कर दिया गया है. इस मामले में कहा गया है कि स्टब बर्निंग के कारण होने वाले प्रदूषण का उच्च स्तर भी मानव की श्वसन प्रणाली को प्रभावित करता है जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है.
पंजाब सराकर ने दिए कार्रवाई के आदेश


पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कोरोना महामारी (Covid pandemic) को देखते हुए किसानों से पराली (paddy straw) न जलाने की अपील की है जिसमें कहा गया है कि महामारी के दौर में पराली से उठने वाले धुएं से फेंफड़े संबंधी बीमारियों को झेल रहे लोगों को ज्‍यादा दिक्‍कतों का सामना करना पड़ सकता है. पंजाब के किसानों (Punjab Farmers) को कोरोना के खतरे से आगाह करने के साथ ही सरकार की ओर से चावल उगाने वाले गांवों में आठ हजार नोडल अधिकारी तैनात किए गए हैं.

दिल्ली-एनसीआर में बढ़ेगा प्रदूषण
लॉकडाउन की वजह से दिल्ली काफी साफ है. अब जल्द ही एक बार फिर से राजधानी के लोगों को प्रदूषण का सामना करना पड़ सकता है. पंजाब और हरियाणा में पराली जलाए जाने के कारण दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ सकता है. सफर के पूर्वानुमान के अनुसार आने वाले सोमवार से राजधानी में एयर क्वॉलिटी इंडेक्स बढ़कर 200 के पार जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज