केला बेचते-बेचते बन जाता है ये शख्स 'ट्रैफिक पुलिसवाला'

मुंब्रा में भीड़ और ट्रैफिक जाम से निपटने की इनकी कोशिशों का नतीजा है कि अब वहां के नौजवानों ने ट्रैफिक फ्री मुंब्रा नाम से एक संस्था भी बना ली है

News18Hindi
Updated: September 7, 2018, 3:34 PM IST
News18Hindi
Updated: September 7, 2018, 3:34 PM IST
मुंबई के मुब्रा इलाके में बढ़ते ट्रैफिक को सुचारु बनाने के लिए एक अनोखी मिसाल पेश की है वहां पर केले का ठेला लगाने वाले कलीम शेख ने. कलीम वैसे तो अपनी रोजी रोटी के लिए केले बेचते हैं और पिछले दस सालों से उससे हुई कमाई से अपने परिवार की रोजी रोटी चलाते हैं. लेकिन जब इस भीड़ भाड़ वाले इलाके में ट्रैफिक जाम लगने लगता है तो खुद ही ट्रैफिक पुलिस की भूमिका अख्तियार कर लेते हैं.

बाकायदा ट्रैफिक वालों की तरह जैकेट पहन कर सीटी बजाते हुए कलीम तीन सालों से आने जाने वालों को सुविधा मुहैया करा रहे हैं. न तो इसके लिए उन्हें किसी ने कहा है और न ही नियुक्त किया है. लेकिन उनके इस काम से कई सामाजिक संस्थाओं ने उनको सम्मानित भी किया है.

मुंब्रा में भीड़ और ट्रैफिक जाम से निपटने की इनकी कोशिशों का नतीजा है कि अब वहां के नौजवानों ने ट्रैफिक फ्री मुंब्रा नाम से एक संस्था भी बना ली है. इस तरह टीएफएम के ये नौजवान अक्सर रमजान और दूसरे त्योहारों पर या बच्चों के परीक्षा के समय में सड़क पर उतर कर टैफ्रिक जाम खत्म करने में लग जाते हैं. सड़कों और आस पास गलत तरीके से गाड़ियां पार्क करने या थोड़ा समय बचाने के लिए गलत दिशा में गाड़ी चलाने के इस दौर में कलीम शेख की कोशिशों की सभी तारीफ करते हैं.

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर