लाइव टीवी

नागरिकता कानून: हिरासत में लिए गए जामिया के 50 छात्रों को पुलिस ने रिहा किया, धरना खत्म

News18Hindi
Updated: December 16, 2019, 12:42 PM IST
नागरिकता कानून: हिरासत में लिए गए जामिया के 50 छात्रों को पुलिस ने रिहा किया, धरना खत्म
दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन करते छात्र और दूसरे संगठन. प्रदर्शन सुबह 4 बजे खत्म हो गया फोटो. PTI

संशोधित नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ देश की राजधानी दिल्ली के जामिया इलाके में शुरू हुए विरोध प्रदर्शन ने उग्र रूप ले लिया. रविवार शाम नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन काफी उग्र हो गया. देर रात हिरासत में लिए गए छात्रों को छोड़ने के बाद ये आंदोलन खत्‍म हुआ.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 16, 2019, 12:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली.  नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act 2019) को लेकर रविवार शाम राजधानी दिल्ली के जामिया इलाके (Jamia) में शुरू हुआ विरोध प्रदर्शन पहले उग्र हुआ, जिसने बाद में हिंसक रूप ले लिया. पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़प में स्टूडेंट्स और पुलिसकर्मी घायल हो गए. प्रदर्शनकारियों ने बसों और वाहनों में आग लगा दी. जामिया में इस हिंसा के खिलाफ जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिर्वसिटी (JMI) छात्रों के अलावा जेएनयू और दूसरे संगठनों के लोगों ने पुलिस मुख्यालय पर धरना किया. हालांकि देर रात पुलिस द्वारा 50 छात्रों को रिहा करने के बाद सोमवार सुबह 4 बजे ये धरना खत्म हुआ.

जामिया इलाके में हालात अब भी तनावपूर्ण हैं. दिल्‍ली सरकार ने इलाके में स्‍कूलों की छुट्टी कर दी है. जामिया कैंपस में 5 जनवरी तक छुट्टी घोषित कर दी गई है. पुलिस अधिकारियों ने निष्‍पक्ष और स्‍वतंत्र जांच की बात कही. सोमवार को पुलिस और छात्रों के एक दल की मुलाकात हो सकती है. .

इससे पहले रविवार शाम  देश की राजधानी दिल्ली के जामिया इलाके में शुरू हुए विरोध प्रदर्शन ने उग्र रूप ले लिया. प्रदर्शनकारियों ने जुलेना के पास तीन बसों में आग लगा दी है. प्रदर्शन को रोकने के लिए पुलिस ने पानी, आंसू गैस के गोले का इस्तेमाल किया. जामिया और जेएनयू के छात्रों को दूसरे संगठनों का समर्थन भी मिला है. विरोध प्रदर्शन में भीम आर्मी भी शामिल हो गई. भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे. आधी रात तक छात्र पुलिस मुख्‍यालय के सामने डटे रहे.



तड़के 3.42 पर दिल्‍ली पुलिस ने बताया कि हिरासत में लिए गए 35 छात्रों को कालकाजी पुलिस स्‍टेशन से छोड़ दिया गया. इसके अलावा 15 छात्रों को न्‍यू फ्रेंड्स कॉलोनी से छोड़ा गया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस ने विरोध प्रदर्शन के दौरान 50 से ज्‍यादा छात्रों को हिरासत में लिया था.



विरोध प्रदर्शन का LIVE UPDATES

दिल्‍ली पुलिस के अनुसार, जामिया इलाके में विरोध प्रदर्शन के दौरान पत्‍थरबाजी की घटना में कई पुलिसवाले घायल हो गए. इनमें दक्षिण पूर्वी डिस्‍ट्रिक्‍ट डीसीपी, एडीशनल डीसीपी साउथ, 2 असिस्‍टेंट कमिश्‍नर, 5 स्‍टेशन हाउस ऑफिसर और इंस्‍पेक्‍टर शामिल हैं.

जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी की वीसी नजमा अख्तर ने कहा, जामिया के छात्रों ने आज विरोध प्रदर्शन नहीं बुलाया था. आज विरोध प्रदर्शन जामिया के आसपास की कॉलोनी के रहवासियों ने बुलाया था. इसे जुलेना तक जाना था. पुलिस यूनिवर्सिटी का गेट तोड़कर अंदर आई. इसके बाद पुलिस के साथ छात्रों की झड़प हुई. पुलिस ने आंदोलनकारियों और छात्रों के बीच फर्क भी नहीं किया. उन्होंने लाइब्रेरी के भीतर बैठे छात्रों पर बल का इस्तेमाल किया, इसमें कई छात्र घायल हुए. पुलिस को कैंपस के अंदर आने की अनुमति नहीं थी, लेकिन फिर भी पुलिस कैंपस में दाखिल हुई.

जामिया ने उन 28 छात्रों की सूची जारी की, जिन्‍हें पुलिस ने हिरासत में लिया था. साथ में ये भी बताया कि इन्‍हें जल्‍द ही छोड़ दिया जाएगा. इसके साथ जामिया मिलिया इस्‍लामिया की ओर से उन 51 लोगों की सूची भी जारी की गई, जिन्‍हें होली फैमिली हॉस्‍पिटल में भर्ती कराया गया था, जिनमें से कई को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई.





दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन की तरफ से जानकारी दी गई है कि प्रदर्शन को देखत हुए 15 से ज्यादा मेट्रो स्टेशन पर एंट्री और एग्जिट गेट बंद कर दिए गए हैं.

1- विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन
2- आरके पुरम मेट्रो स्टेशन
3- शिवाजी स्टेडियम मेट्रो स्टेशन
4- पटेल चौक मेट्रो स्टेशन
5- प्रगति मैदान मेट्रो स्टेशन
6- आईटीओ मेट्रो स्टेशन
7- जीटीबी नगर मेट्रो स्टेशन
8- वसंत विहार मेट्रो स्टेशन
9- मुनिरका मेट्रो स्टेशन
10- आरके पुरम मेट्रो स्टेशन
11- सुखदेव विहार मेट्रो स्टेशन
12- जामिया मिलिया इस्लामिया मेट्रो स्टेशन
13- ओखला विहार मेट्रो स्टेशन
14- जसोला विहार मेट्रो स्टेशन
15- आश्रम मेट्रो स्टेशन
16- शाहीन बाग मेट्रो स्टेशन
17- दिल्ली गेट मेट्रो स्टेशन
18- आईआईटी मेट्रो स्टेशन
19- मुनेरका मेट्रो स्टेशन

JNU के सैकड़ों छात्रों ने दिल्ली पुलिस मुख्यालय का घेराव किया. यह घेराव जामिया के छात्रों के समर्थन में किया गया है. जेएनयू के छात्रों को देखते हुए मौके पर भारी पुलिस फोर्स तैनात किया गया है.



वसंत विहार, मुनिरका और आरके पुरम मेट्रो के प्रवेश और निकास द्वार बंद
दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन की तरफ से जानकारी दी गई है कि वसंत विहार, मुनिरका और आरके पुरम मेट्रो के प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं. इन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी. इससे पहले सुखदेव विहार, जामिया मिलिया इस्लामिया, ओखला विहार, जसोला विहार, आश्रम मेट्रो स्टेशन और शाहीन बाग के एंट्री और एग्जिट गेट बंद हैं.

साउथ ईस्ट दिल्ली के स्कूल सोमवार को रहेंगे बंद
दिल्ली सरकार ने साउथ ईस्ट दिल्ली जिले में ओखला, जामिया, न्यू फ्रैंड्स कॉलोनी, मदनपुर खादर क्षेत्र के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल सोमवार को बंद रहेंगे. दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट करते हुए कहा कि वर्तमान हालात को देखते हुए दिल्ली सरकार ने स्कूल बंद रखने का निर्णय लिया है.

गोलीबारी नहीं हुई: डीसीपी
'प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने फायर किया?' इस पर साउथ-ईस्ट दिल्ली के डीसीपी चिन्मॉय बिस्वाल ने कहा कि बिल्कुल गोलीबारी नहीं हुई है. यह एक झूठी अफवाह है, जो फैलाई जा रही है. उन्होंने कहा कि कुछ लोगों हिरासत में लिया गया है, लेकिन अभी और जानकारी नहीं दे सकते. केवल बाद में अधिक जानकारी दे सकते हैं.

जामिया के छात्रों के साथ कोई समस्या नहीं, हमारा उद्देश्य केवल भीड़ को हटाना
साउथ-ईस्ट दिल्ली के डीसीपी चिन्मॉय बिस्वाल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि प्रदर्शन करने वाली यह भीड़ हिंसक थी. जिसने पुलिस के ऊपर पथराव किया, जिसमें पुलिस के करीब 6 जवान घायल हो गए. घायलों की अभी तक हमें पहचान नहीं मिली है. उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य केवल भीड़ को हटाना है. इसलिए क्षेत्र में कानून-व्यवस्था बहाल की जा सकती है. हमें विश्वविद्यालय (जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय) के छात्रों के साथ कोई समस्या नहीं है. डीसीपी चिन्मॉय बिस्वाल ने कहा कि भीड़ ने आगजनी की, मोटरसाइकिलों को आग लगा दी, भीड़ ने हम पर भी पथराव किया.

निंदनीय है पुलिस की कार्रवाई
जामिया के कुलपति नजमा अख्तर का कहना है कि पुलिस की कार्रवाई निंदनीय है, जो छात्र लाइब्रेरी के अंदर थे, उन्हें बाहर निकाल दिया गया और वे सुरक्षित हैं.

बलपूर्वक कैंपस में दाखिल हुई पुलिस: जामिया प्रॉक्टर
जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के चीफ प्रॉक्टर ने कहा कि पुलिस ने बलपूर्वक परिसर में प्रवेश किया है. उन्हें परिसर में आने की कोई अनुमति नहीं दी गई. हमारे कर्मचारियों और छात्रों को पीटा गया और परिसर छोड़ने के लिए मजबूर किया गया है.

रद्द की गईं ये 8 ट्रेनें
पूर्व रेलवे के अजीमगंज-नया फरक्का खंड पर कानून-व्यवस्था को देखते हुए इन 8 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है-

1. अजीमगंज - निमिता - अजीमगंज पैसेंजर
2. कटवा - निमिता - कटवा पैसेंजर
3. सियालदह - जंगीपुर रोड - सियालदह डेमू
4. अजीमगंज - साहिबगंज - अजीमगंज पैसेंजर
5. साहिबगंज - भागलपुर - साहिबगंज पैसेंजर
6. अजीमगंज - बरहरवा-अजीमगंज पैसेंजर
7. अजीमगंज - मालदा टाउन - अजीमगंज पैसेंजर
8. अजीमगंज - बरहरवा-अजीमगंज पैसेंजर

प्रमुख मीडिया संस्थान की एक महिला पत्रकार ने कहा, "उन्होंने (पुलिस ने) मेरा फोन छीन लिया और उसे तोड़ दिया. एक पुरुष पुलिसकर्मी ने मेरे बाल खींचे. उन्होंने मुझे मारा और जब मैंने उनसे अपना फोन देने के लिए कहा तो उन्होंने मुझे गालियां दीं. मैं यहां मनोरंजन के लिए नहीं आई थी, मैं कवरेज के लिए यहां आई थी."

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए वीडियो ट्वीट किया. वीडियो ट्वीट करते हुए मनीष सिसोदिया ने लिखा कि बीजेपी ने दिल्ली पुलिस से बसों में आग लगवाई है.



प्रदर्शनकारियों ने फायर ब्रिगेड की टीम पर किया हमला
जामिया नगर और मथुरा रोड पर प्रदर्शन के दौरान पथराव और आगज़नी की घटनाएं हुईं. फायर ब्रिगेड की टीम पर भी प्रदर्शनकारियों ने हमला किया, कई कार और बाइक को भी निशाना बनाया गया. वहीं जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन में एक पुलिसकर्मी घायल हो गया. घायल साथी को अन्य पुलिसकर्मियों ने सुरक्ष जगह पर पहुंचाया. वहीं जामिया के छात्रों ने पुलिस पर मारपीट करने का आरोप लगाया.



प्रदर्शन कर रहे कई छात्र हिरासत में लिए गए
दिल्ली पुलिस ने जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के गेट नंबर 1 से प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया है. वहीं विश्वविद्यालय के अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली पुलिस ने जामिया मिलिया इस्लामिया परिसर में घुसी. कई छात्रों को हिरासत में लिया गया है.



मनोज तिवारी ने आप विधायक पर लगाया हिंसा भड़काने का आरोप
दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने आम आदमी पार्टी के विधायक पर हिंसा भड़काने का आरोप लगाया. मनोज तिवारी ने कहा कि आप विधायक ने हिंसा को भड़काया. वहीं आप विधायक अमानतुल्लाह खान ने कहा कि मैं कालिंदी कुंद के प्रदर्शन में शामिल था. वो प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा.

विरोध प्रदर्शन के चलते 6 मेट्रो स्टेशन बंद
डीएमआरसी के मुताबिक, सुखदेव विहार, जामिया मिलिया इस्लामिया, ओखला विहार, जसोला विहार और शाहीन बाग के एंट्री और एग्जिट गेट बंद हैं. इन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी. बता दें, आश्रम मेट्रो स्टेशन के गेट पहले ही बंद कर दिए गए थे.

पुलिस ने की छात्रों से शांति बनाए रखने की अपील
पुलिस ने छात्रों से शांत बनाए रखने की अपील की है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक, "हम छात्रों से शांत और शांतिपूर्ण बने रहने का अनुरोध करते हैं. अगर उन्हें कोई समस्या है तो वे हमारे कंट्रोल रूम को फोन करें कि वे अवांछित तत्वों को आश्रय न दें. कोई भी उन्हें उचित अनुमति के बाद शांतिपूर्ण प्रदर्शन के लिए जाने से नहीं रोकता है."

सुखदेव विहार और आश्रम  मेट्रो स्टेशन बंद 
डीएमआरसी के मुताबिक, दिल्ली पुलिस की सलाह पर सुखदेव विहार मेट्रो स्टेशन प्रवेश और निकास द्वार और आश्रम मेट्रो स्टेशन के गेट नंबर-3 बंद कर दिए गए हैं. सुखदेव विहार में ट्रेनें नहीं रुकेंगी.

इससे पहले जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) विश्वविद्यालय के छात्रों और स्थानीय लोगों ने रविवार को जामिया नगर में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन किया.

बसों में आग लगा दी गई


इस बीच, जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों ने बयान जारी करते हुए साफ किया है कि रविवार को हो रहे प्रदर्शन शांतिपूर्ण है. वहीं, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट कर बताया कि प्रदर्शन की वजह से ओखला अंडरपास से सरिता विहार तक के रास्ते को बंद किया गया है.

बस में लगी आग


बता दें कि शुक्रवार को विश्वविद्यालय परिसर उस समय युद्ध का मैदान बन गया जब विवादित संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध दर्ज कराने के लिए संसद मार्च करने की कोशिश कर रहे प्रदर्शनकारियों और पुलिस में झड़प हो गई.

कानून बना नागरिकता संशोधन बिल
बता दें कि नागरिकता संशोधन बिल 2019 राज्यसभा और लोकसभा से पारित होने के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की ओर से इसे मंजूरी मिलने के बाद कानून में बदल गया. राज्यसभा में विधेयक के पक्ष में 125 वोट और विरोध में 99 वोट पड़े थे. वहीं, लोकसभा में इस बिल के पक्ष में 311 और विरोध में 80 वोट पड़े. नागरिकता संशोधन कानून के तहत भारत के तीन पड़ोसी इस्लामी देशों- पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से धार्मिक प्रताड़ना का शिकार होकर भारत की शरण में आए गैर-मुस्लिम लोगों को आसानी से नागरिकता मिल सकेगी.

ये भी पढ़ें-

इन 47 जगहों पर SC, OBC छात्रों को मिलती है मुफ्त कोचिंग, क्या आप जानते हैं?

दिल्ली की सत्ता में वापसी के लिए BJP ने बनाया प्लान, इन 12 सीटों पर फोकस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 15, 2019, 5:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर