• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • घट रहा है IIM का स्तर, आधा हो गया एवरेज प्लेसमेंट पैकेज

घट रहा है IIM का स्तर, आधा हो गया एवरेज प्लेसमेंट पैकेज

file photo.

file photo.

नए खोले गए आईआईएम (इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट) पुराने आईआईएम के मुकाबले कमजोर साबित हो रहे हैं.

  • Share this:
    नए खोले गए आईआईएम (इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट) पुराने आईआईएम के मुकाबले कमजोर साबित हो रहे हैं. यही वजह है कि नए आईआईएम में पढ़ाई कर रहे छात्रों को प्‍लेसमेंट में भी जगह नहीं मिल पा रही है.

    मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय के अनुसार बोध गया आईआईएम के 4 छात्रों को प्‍लेसमेंट नहीं मिल पाया है. वहीं पुराने संस्‍थानों के मुकाबले नए आईआईएम के छात्रों का औसत पैकेज भी आधे के बराबर है.

    नए आईआईएम से पढ़ाई कर रहे छात्रों का इस साल का औसत पैकेज 8 लाख रुपये रहा है. जबकि पुराने आईआईएम का औसत पैकेज 15 लाख रुपये रहा है. ऐसे में मानव संसाधन विकास मंत्रालय चिंतित है कि नए संस्‍थानों में प्‍लेसमेंट न होने से इनकी साख खराब हो सकती है.

    इस संबंध में मंत्रालय का कहना है कि अर्थव्‍यवस्‍था कठिन दौर में होने के कारण कंपनियां भी सस्‍ते कर्मचारी तलाश रही हैं. यही वजह है कि आईआईएम जैसे संस्‍थानों में छात्रों का औसत पैकेज काफी कम रहा है.

    हालांकि यह हालत सभी क्षेत्रों में है. जहां पैकेजों में काफी गिरावट आ रही है. न केवल देश में बल्कि विदेशों में भी हालात खराब है. हालांकि आईआईएम कोलकाता, बंगलुरू, लखनऊ, कोझिकोड, इंदौर आदि में छात्रों को काफी अच्‍छे पैकेज ऑफर हुए हैं.

    इन नए आईआईएम की हालत है खराब
    आईआईएम नागपुर, बोधगया, संबलपुर, सिरमौर, विशाखापट्टनम, उदयपुर, काशीपुर, रायपुर, रांची आदि की हालत प्‍लेसमेंट के मामले में काफी खराब है. यहां कंपनियां प्‍लेसमेंट के लिए भी कम आ रही हैं. जबकि पुराने आईआईएम में इनसे बेहतर हालात हैं.

    आईटी कंपनियों ने भी कम वेतन पर की भर्तियां
    गौरतलब है कि हाल के दिनों में आईटी कं‍पनियों से पुराने और भारी-भरकम सैलरी वाले कर्मचारियों के निकाले जाने के साथ ही कम वेतन वाले फ्रेशर्स की भर्तियों की खबरें भी सामने आई हैं. वहीं कई संस्‍थानों में प्‍लेसमेंट भी कम हुआ है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज