सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर गृहमंत्री अमित शाह बोले- लाखों बच्चे उनसे प्रेरणा लेकर देश को आत्मनिर्भर बनाएं

केंद्र सरकार नेता जी के जन्मदिन को 'पराक्रम दिवस' के तौर पर मना रही है.

केंद्र सरकार नेता जी के जन्मदिन को 'पराक्रम दिवस' के तौर पर मना रही है.

Netaji Subhash Chandra Bose Jaynti: गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने इस मौके पर नेताजी को याद करते हुए कहा कि देश के बच्चों को उनसे प्रेरण लेने की जरूत है. शाह ने कहा कि बच्चे और नौजवान उनसे सीख लेकर देश को आत्मनिर्भर बनाने की कोशिश करे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 23, 2021, 6:30 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूरा देश आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) को याद कर रहा है. आज उनकी जयंती को 125 साल पूरे हो गए. केंद्र सरकार उनके जन्मदिन को 'पराक्रम दिवस' के तौर पर मना रही है. इस मौके पर देश भर में कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं. गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने इस मौके पर नेताजी को याद करते हुए कहा कि देश के बच्चों को उनसे प्रेरण लेने की जरूत है. शाह ने कहा कि बच्चे और नौजवान उनसे सीख लेकर देश को आत्मनिर्भर बनाने की कोशिश करे. उन्होंने ये भी कहा कि नेताजी जन्म से ही देशभक्त थे.

अमित शाह ने गुवाहाटी में सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजली दी. इस मौके पर उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री मोदी जी ने निर्णय किया है कि नेताजी के जन्म के सवा सौ साल को देश भर में उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाएगा. उनके जन्मदिन को इस तरह मनाया जाएगा कि सुभाष बाबू के देश की आजादी में योगदान को आने वाली पढ़ियां लंबे समय तक याद रखेगी. सुभाष बाबू एक ओजस्वी विद्यार्थी, जन्मजात देशभक्त, कुशल प्रशासक और सबसे संघर्षील नेता थे.'



Youtube Video

अमित शाह ने इम मौके पर प्रधानमंत्री के फैसले की तारीफ की. उन्होंने कहा, 'आज ये राष्ट्र उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करता है. मैं भी मन से और बड़े ह्रदय से उन्हें श्रद्धांजली देता हूं. मोदी जी ने जो फैसला किया है सुभाष बाबू के जन्म दिन के सवा सौ साल मनाने का हम सब उसके भागीदार बने. और खास कर बच्चों और युवा पीढ़ी को उनके जीवन के बारे में बताएं. बच्चे उनसे सीख लेकर भारत को आत्मनिर्भर बना सकते हैं'.

ये भी पढ़ें:- दिल्ली: AIIMS कर्मी से मारपीट मामले में AAP MLA सोमनाथ भारती दोषी, 4 बरी

अमित शाह ने कहा, 'नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के साहस और पराक्रम ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम को नई शक्ति प्रदान की. उन्होंने विपरीत परिस्थितियों में अपने करिश्माई नेतृत्व से देश की युवाशक्ति को संगठित किया. स्वतंत्रता आन्दोलन के ऐसे महानायक की 125वीं जयंती पर उन्हें कोटि-कोटि नमन.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज