'ममता बनर्जी ने मुश्किल घड़ी में दिया साथ, उनका आभारी हूं'- मुकुल रॉय के बेटे की बातों से राजनीतिक अटकलें हुई तेज़

मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय (फ़ाइल फोटो)

मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय (फ़ाइल फोटो)

West Bengal Politics: मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु ने न्यूज़-18 बांग्ला के साथ खास बातचीत में कहा कि पश्चिम बंगाल विभाजनकारी राजनीति को स्वीकार नहीं करता है. उन्होंने कहा, 'मैं समझ गया हूं कि राजनीति में कुछ भी संभव है.'

  • Share this:

कोलकाता. बीजेपी नेता मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय (Subhranshu Roy) ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का शुक्रिया अदा किया है. उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने मुश्किल घड़ी में उनके परिवार का हालचाल जाना इसके लिए वो मुख्यमंत्री के आभारी हैं. बता दें कि शुभ्रांशु के इस बयान से पश्चिम बंगाल में जारी राजनीतिक अटकलों को और बल मिल रहा है. शुभ्रांशु साल 2019 में टीएमसी को छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे. उन्होंने इस बार बिजापुर से विधानसभा का चुनाव भी लड़ा था, लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

न्यूज़ 18 बांग्ला से खास बातचीत में उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल विभाजनकारी राजनीति को स्वीकार नहीं करता है. उन्होंने कहा, 'मैं समझ गया हूं कि राजनीति में कुछ भी संभव है.' बता दें कि रॉय के माता पिता कोरोना से संक्रमित हो गए थे. पिता मुकुल रॉय तो अब ठीक हो गए हैं, जबकि मां कृष्णा रॉय अब भी कोलकाता के अपोलो अस्पताल में वेंटिलेटर पर हैं. शुभ्रांशु ने बताया के ममता ने उनसे पिता और मां का हाल-चाल पूछा.

अभिषेक की तारीफ

शुभ्रांशु ने कहा, 'एक विरोधी दल में होने के बावजूद अभिषेक पिछले दो सप्ताह से मेरी मां के स्वास्थ्य के बारे में पूछताछ कर रहे हैं. वो मेरी मां को देखने आए. मैं उनका आभारी हूं. कई बार बेटे के कर्मों के कारण माता-पिता को कष्ट होता है. मैं व्यक्तिगत रूप से महसूस करता हूं कि मेरी मां मेरे बुरे कर्मों के कारण पीड़ित हैं.'
बीजेपी की इशारों में आलोचना

बता दें कि ये कोई पहला मौका नहीं जब हाल के दिनों में शुभ्रांशु रॉय ने टीएमसी को लेकर नजदीकियां दिखाई हो. पिछले दिनों एक फेसबुक पोस्ट में उन्होंने अपनी पार्टी की आलोचना की थी. उन्होंने लिखा था कि चुनी हुई सरकार की आलोचना करने से पहले पार्टी को आत्ममंथन की जरूरत है. उनके इस फेसबुक पोस्ट के बाद तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही थी.

ये भी पढ़ें:- पंजाब: छठे वेतन आयोग की सिफारिशें फिर ठंडे बस्ते में, 31 अगस्त तक बढ़ाई मियाद



क्या मुकुल रॉय बदलेंगे पाला?

मुकुल रॉय 2017 में टीएमसी छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए थे. कहा जा रहा है कि उनकी मेहनत के दम पर ही बीजेपी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में 18 सीटें जीतीं. अटकलें लगाई जा रही हैं कि हाल में खत्म हुए राज्य विधानसभा चुनावों में बीजेपी के खराब प्रदर्शन के बाद अब मुकुल रॉय टीएमसी में वापस आ सकते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज