ममता बनर्जी के समर्थन में मुकुल रॉय के बेटे ने लिखा फेसबुक पोस्ट, BJP को इशारों-इशारों में दी नसीहत!

मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय (फ़ाइल फोटो)

मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय (फ़ाइल फोटो)

BJP Vs TMC: शुभ्रांशु साल 2019 में टीएमसी को छोड़ कर बीजेपी में शामिल हुए थे. वो इस बार बिजापुर से विधानसभा का चुनाव भी लड़े थे. लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था.

  • Share this:

कोलकाता. ऐसा लग रहा है कि अब पश्चिम बंगाल में हार के बाद स्थानीय बीजेपी नेताओं की नाराज़गी सामने आने लगी है. बीजेपी नेता मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय (Subhranshu Roy) ने एक फेसबुक पोस्ट में अपनी पार्टी की आलोचना की है. उन्होंने लिखा है कि चुनी हुई सरकार की आलोचना करने से पहले पार्टी को आत्ममंथन की जरूरत है. उनके इस फेसबुक पोस्ट के बाद तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही है. बता दें कि शुभ्रांशु साल 2019 में टीएमसी को छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे. वो इस बार बिजापुर से विधानसभा का चुनाव भी लड़े थे, लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था.

बीजेपी नेता मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय ने शनिवार रात एक फेसबुक पोस्ट में लिखा, 'लोगों के समर्थन से आई सरकार की आलोचना करने से पहले आत्ममंथन करने की जरूरत है. चुनी हुई सरकार की आलोचना करना बंद करें और आत्मनिरीक्षण करें.'

Youtube Video

क्या है पूरा मामला?
बता दें कि पीएम मोदी के बंगाल दौरे के बाद से बीजेपी नेता ममता बनर्जी की लगातार आलोचना कर रहे हैं. दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चक्रवाती तूफान यास की तबाही का जायजा लेने बंगाल गए थे. पीएम ने राज्य में एक समीक्षा बैठक भी की थी. इस बैठक में राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी 30 मिनट की देरी से पहुंचीं थीं. इसके बाद वो 20 हजार करोड़ रुपये की सहायता राशि की मांग वाली लिस्ट पीएम को थमाकर निकल गईं.


ममता की सफाई



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में चक्रवाती तूफान यास पर समीक्षा के लिए हुई बैठक को लेकर उठे विवाद के एक दिन बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को कहा कि उन्होंने विपक्ष के नेता की मौजूदगी पर आपत्ति जताते हुए बैठक में भाग नहीं लिया. बनर्जी ने केंद्र सरकार से मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय को दिल्ली बुलाने के आदेश को वापस लेने को कहा. बनर्जी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह उनकी सरकार के लिये हर कदम पर मुश्किल पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि वे अब भी विधानसभा चुनावों में भाजपा की हार को पचा नहीं पाए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज