vidhan sabha election 2017

राम जन्मभूमि नहीं बल्कि मोदी को बचा रहे हैं स्वामी: ओवैसी

News18Hindi
Updated: December 7, 2017, 8:56 PM IST
राम जन्मभूमि नहीं बल्कि मोदी को बचा रहे हैं स्वामी: ओवैसी
न्यूज18 इंडिया के कार्यक्रम चौपाल में असदुद्दीन ओवैसी
News18Hindi
Updated: December 7, 2017, 8:56 PM IST
न्यूज 18 के कार्यक्रम 'चौपाल' में बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी और एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का आमना-सामना हुआ. कार्यक्रम में बातचीत में स्वामी ने कहा कि राम मंदिर करोड़ों लोगों की आस्था का सवाल है. इलाहाबाद हाईकोर्ट के निर्देश पर ऑर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने ये पुष्टि की है कि विवादित जगह पर पहले राम मंदिर था जहां बाद में बाबरी मस्जिद बना.

उन्होंने आगे कहा कि मस्जिद को मुस्लिम आबादी वाले हिस्से में बनाया जा सकता है. नमाज़ कहीं भी पढ़ी जा सकती है. उन्होंने मुस्लिम देशों का हवाला देते हुए कहा कि कई मुस्लिम देशों में बिल्डिंग बनाने के लिए मस्जिदों को तोड़ा जाता है.



इसके जवाब में असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मस्जिद 400 साल से वहीं था. उसे रात के अंधेरे में चोरों की तरह ढहाया गया. उन्होंने कहा कि आरएसएस के किसी भी संचालक ने राम जन्मभूमि की बात नहीं की. यहां तक कि आरएसएस के 1955 के रिजॉल्यूशन में भी कृष्ण जन्मभूमि की बात है राम जन्मभूमि की नहीं. विश्व हिंदू परिषद की बुकलेट में भी राम जन्मभूमि का ज़िक्र नहीं है. ओवैसी ने कहा कि हमें सुप्रीम कोर्ट पर पूरा भरोसा है कि न्याय होगा.



ओवैसी ने स्वामी पर सवाल उठाते हुए कहा कि स्वामी राम जन्मभूमि नहीं बल्कि मोदी को बचा रहे हैं. वो राम जन्मभूमि के मुद्दे पर लोगों को उलझाकर रखना चाहते हैं ताकि 2019 से पहले नोटबंदी, बेरोज़गारी जैसे मुद्दों पर लोगों का ध्यान न जाए. उन्होंने कहा कि मस्जिद इस्लाम का ज़रूरी हिस्सा है जिसे हटा नहीं सकते. राम मंदिर ज़रूर बनाएं लेकिन मस्‍जिद की जगह नहीं.



राम मंदिर को लेकर बहस के बीच सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने कहा कि राम जन्‍म भूमि से हमारी आस्‍था जुड़ी है. इस पर जवाब देते हुए ओवैसी ने पूछा कि ये देश आस्‍था पर चलेगा या 'रूल ऑफ लॉ' पर. इसको मंदिर मस्‍जिद में मत देखिए, ये इंसाफ का मुद्दा है. कोर्ट आस्‍था के आधार पर फैसला नहीं सुनाएगा. इसके जवाब में स्वामी ने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने फैसले में आस्था का ख्याल रखा था.



असदुद्दीन ओवैसी ने आरएसएस पर बड़ा हमला करते हुए कहा कि आरएसएस और बीजेपी बयानों से कोर्ट को प्रभावित कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि मोहन भागवत बताएं कि राम मंदिर उनके बयानों से बनेगा या फिर अदालत के फैसले से. उन्होंने आगे कहा कि एक दिन ऐसा आएगा जब स्वामी खुद बीजेपी के खिलाफ बोलेंगे तब मैं उन्हें मिठाई खिलाऊंगा. ओवैसी ने कहा कि पीएम मोदी को मुगल, चुनावी भाषण के समय याद आता है. ट्रंप की बेटी को मुगलई खाना खिलाया जाता है.



बहस के दौरान बीजेपी नेता ने कहा कि आरोप लगने के डर से मुस्लिम नेता राम मंदिर पर समझौते से बच रहे हैं. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में राम जन्मभूमि केस हम जीतने वाले हैं.



हिंदुस्तान की जनता मेच्योर है, इस बाबत ओवैसी ने कहा कि हिंदुस्तान की जनता इतनी मेच्योर है कि जिसके सीएम रहते 2 हज़ार मुस्लिम मारे गए, उसे पीएम बना दिया. गुजरात दंगों के बाद जो मुख्यमंत्री कार्रवाई नहीं कर सका उसे प्रधानमंत्री बना दिया.



वसीम रिज़वी और पंडित रविशंकर के राममंदिर विवाद पर सुलह की कोशिशों पर ओवैसी ने कहा कि एनजीटी ने श्री श्री रविशंकर पर यमुना बर्बाद करने का आरोप लगाया और वो चले हैं राम को बचाने. उन्होंने कहा कि मुस्लिम नेताओं का श्री श्री रवि शंकर से मिलना गलत था, मैंने इसकी शिकायत पर्सनल लॉ बोर्ड से की है. रविशंकर बीजेपी और आरएसएस के इशारे पर काम कर रहे हैं. सुब्रमण्यम स्वामी के हाथ में वसीम रिज़वी का रिमोट कंट्रोल है.

ये भी पढ़ें-
ट्विटर पर चुनाव होता तो राहुल की बॉट आर्मी उन्हें जिता देती: राज्यवर्धन
कन्हैया ने पूछा- मैं देशद्रोही तो मेरे खिलाफ चार्जशीट क्यों नहीं, पात्रा बोले- इनका हीरो अफजल
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर