हवा में 30 किमी तक मार करने वाली QRSA मिसाइल का सफल परीक्षण, लंबे समय से चल रहे थे ट्रायल

QRSAM का पहला ट्रायल 4 जून 2017 को किया गया था. (फोटो: ANI)
QRSAM का पहला ट्रायल 4 जून 2017 को किया गया था. (फोटो: ANI)

बीते डेढ़ महीनों में डीआरडीओ (DRDO) ने कम से कम 12 मिसाइलों के टेस्ट किए हैं. माना जा रहा है कि आने वाले समय में कुछ और टेस्ट भी किए जाने हैं. QRSAM ने ट्रायल में लक्ष्य पर सटीक निशाना लगाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2020, 8:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. काफी समय से चले आ रहा क्विक रिएक्शन सर्फेस टू एयर मिसाइल्स (Quick Reaction Surface-to-Air Missile (QRSAM)) के ट्रायल्स शुक्रवार को पूरे कर लिए गए हैं. भारत ने इन मिसाइलों का सफल परीक्षण कर लिया है. ट्रायल्स के अगले दौर में सेना कम रेंज वाली मिसाइल का परीक्षण करेगी. यह ट्रायल्स उड़ीसा के बालासोर तट पर किए गए हैं. ट्रायल के दौरान मिसाइल ने अपने लक्ष्य पर एकदम सटीक निशाना लगाया है.

मिसाइल को डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) ने तैयार किया है. मिसाइल को परीक्षण के लिए दोपहर 3:40 पर एक मोबाइल लॉन्चर के जरिए दागा गया. मामले के जानकार बताते हैं कि मिसाइल ने अपने टार्गेट को पूरी तरफ खत्म कर दिया था. यह मिसाइल हवा में उड़ते हुए टार्गेट को आसमान में 30 किमी तक मार सकती है. खास बात है कि जिस मोबाइल वाहन पर यह मिसाइल रखी गई थी, उसमें एक पर मिसाइल होती है और दूसरे पर एक रडार होता है. इसकी वजह से इसे हमले के वक्त एक जगह से दूसरी जगह आसानी से ले जाया जा सकता है. QRSAM का पहला ट्रायल 4 जून 2017 को किया गया था.





तेजी से ट्रायल्स कर रही है डीआरडीओ
बीते डेढ़ महीनों में डीआरडीओ ने कम से कम 12 मिसाइलों के टेस्ट किए हैं. माना जा रहा है कि आने वाले समय में कुछ और टेस्ट भी किए जाने हैं. खास बात है कि टेस्टिंग की इतनी तेज रफ्तार ऐसे समय में आई है जब लद्दाख में भारत और चीन के बीच एक्चुअल लाइन ऑफ कंट्रोल (Line of Actual Control) पर तनाव जारी है.

अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में डीआरडीओ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि इतने कम समय में टेस्ट की संख्या निश्चित रूप से सबसे ज्यादा है. बड़े स्तर पर तीनों सेनाओं के लिए मकसद, रेंज के हिसाब से मिसाइल तैयार की जा रही हैं. विकसित की जा रही मिसाइलें अलग-अलग स्टेज पर हैं, जहां उनके डेवलपमेंट ट्रायल्स किए जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज