होम /न्यूज /राष्ट्र /रूस में पकड़ा गया आत्मघाती हमलावर, भारतीय नेता को उड़ाने की थी साजिश

रूस में पकड़ा गया आत्मघाती हमलावर, भारतीय नेता को उड़ाने की थी साजिश

रूसी संघीय सुरक्षा सेवा (एफएसबी) ने IS के आत्मघाती हमलावर को गिरफ्तार किया है. बीजेपी के एक प्रमुख नेता को उड़ाने की थी साजिश   (फाइल फोटो)

रूसी संघीय सुरक्षा सेवा (एफएसबी) ने IS के आत्मघाती हमलावर को गिरफ्तार किया है. बीजेपी के एक प्रमुख नेता को उड़ाने की थी साजिश (फाइल फोटो)

रूसी संघीय सुरक्षा सेवा (एफएसबी) ने कहा कि उसके अधिकारियों ने एक आत्मघाती हमलावर को हिरासत में लिया है, जो इस्लामिक स्ट ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

रूसी संघीय सुरक्षा सेवा(FSB) ने IS के आत्मघाती हमलावर को गिरफ्तार किया है.
पैगंबर मुहम्मद के अपमान का बदला लेने के लिए भाजपा के एक प्रमुख नेता को उड़ाने की थी साजिश.

नई दिल्ली.  रूसी संघीय सुरक्षा सेवा (एफएसबी) ने कहा कि उसके अधिकारियों ने एक आत्मघाती हमलावर को हिरासत में लिया है, जो इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) आतंकवादी समूह का सदस्य है. हमलावार भारत रूलिंग पार्टी के प्रमुख नेता के खिलाफ आतंकवादी हमले की साजिश रच रहा था. रूस की समाचार एजेंसी स्पुतनिक की एक रिपोर्ट में ये जानकारी दी गयी. प्राप्त जानकारी के अनुसार, संदिग्ध आत्मघाती हमलावर पैगंबर मुहम्मद के अपमान का बदला लेने के लिए सत्तारूढ़ दल (भाजपा) के एक नेता को मारना चाहता था.

विश्वस्त सूत्र से पता चला है, “रूस के FSB ने रूस में प्रतिबंधित इस्लामिक स्टेट अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी संगठन के एक सदस्य की पहचान की और उसे हिरासत में लिया, जो मध्य एशियाई क्षेत्र के एक देश का मूल निवासी था, जिसने भारत के सत्तारूढ़ दल के प्रतिनिधियों में से एक के खिलाफ खुद को उड़ाकर एक आतंकवादी कार्य करने की योजना बनाई थी.”

रूसी सुरक्षा एजेंसी के मुताबिक, ” अप्रैल से जून में उसके तुर्की में प्रवास के दौरान एक IS नेता ने उसे आत्मघाती हमलावर तौर पर भर्ती किया था.” एक बयान में कहा गया है कि भर्ती प्रक्रिया के लिए टेलीग्राम का उपयोग किया गया था और इस्तांबुल में व्यक्तिगत बैठकों की गई थी. एफएसबी ने कहा, “परिणामस्वरूप, आतंकवादी ने आईएस के अमीर के प्रति निष्ठा की शपथ ली. उसके बाद, उसे रूस के लिए रवाना होने और आवश्यक दस्तावेजों को पूरा करने और एक हाई-प्रोफाइल आतंकवादी कृत्य करने के लिए भारत जाने का काम दिया गया था.”

केंद्र सरकार ने इस्लामिक स्टेट (IS) और उसकी सभी अभिव्यक्तियों को आतंकवादी संगठन के रूप में अधिसूचित किया है और उसे गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम, 1967 की पहली अनुसूची में शामिल किया है. केंद्रीय गृह मंत्रालय के मुताबिक, आईएस अपनी विचारधारा को प्रचारित करने के लिए विभिन्न इंटरनेट आधारित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर रहा है. इस संबंध में संबंधित एजेंसियों द्वारा साइबरस्पेस पर कड़ी नजर रखी जा रही है और कानून के अनुसार कार्रवाई की जा रही है.

Tags: BJP, ISIS

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें