करतारपुर गुरुद्वारा का प्रबंधन स्थानांतरित करने का मसला पाकिस्तान के समक्ष उठाएं मोदी: सुखबीर

अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल (File Photo)
अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल (File Photo)

सुखबीर (Sukhbir Singh Badal) ने बयान जारी कर कहा कि गैर सिखों वाले परियोजना प्रबंधन स्थापित करने के पाकिस्तान सरकार के निर्णय ने पूरी दुनिया के सिख समुदाय की भावनाओं को आहत किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2020, 9:50 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब में विपक्षी शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष (SAD President) सुखबीर सिंह बादल (Sukhbir Singh Badal) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से करतारपुर गुरुद्वारा का प्रबंधन सिख निकाय से लेकर एक अलग ट्रस्ट को स्थानांतरित करने के मुद्दे को पाकिस्तान के समक्ष उठाने और पूर्व की स्थिति को बहाल कराने का आग्रह किया है.

सुखबीर ने बयान जारी कर कहा कि गैर सिखों वाले परियोजना प्रबंधन स्थापित करने के पाकिस्तान सरकार के निर्णय ने पूरी दुनिया के सिख समुदाय की भावनाओं को आहत किया है. शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के अध्यक्ष ने मामले में पीएम मोदी से हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है.


सुखबीर ने मोदी से इस मामले को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के समक्ष उठाने का आग्रह किया है. शिअद प्रमुख ने यह भी आग्रह किया है कि विदेश मंत्रालय को यह दायित्व दिया जाये कि करतारपुर स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब में जितनी जल्दी हो सके पूर्व की स्थिति बहाल करना सुनिश्चित करायें. उन्होंने कहा, 'यह सिख गुरुद्वारों से संबंधित 'मर्यादा' के खिलाफ है.' उन्होंने कहा कि सिख समुदाय इस निर्णय को पंजाब में समुदाय के लोगों पर सीधे हमले के रूप में देख रहा है.



सुखबीर ने कहा कि यह पहला मौका है जब सिख गुरुद्वारा का प्रबंधन पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी से लेकर इवैकुयी ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड को दे दिया गया है.



उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से भी व्यक्तिगत अपील की है कि वह पंजाब के धार्मिक मामलों के मंत्रालय से नौ सदस्यीय परियोजना प्रबंधन इकाई को भंग करने का निर्देश दें और इसे पीएसजीपीसी के हाथों में पुन: सौंप दें. इससे पहले दिन में विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के इस निर्णय को बेहद निंदनीय बताया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज