सुखबीर सिंह बादल बोले-सरकार के इशारों पर काम कर रहा है प्रशासन, MC चुनाव में तैनात हो पैरा मिलिट्री फोर्स

सुखबीर सिंह बादल ने कहा,  एक अग्रणी पार्टी के प्रधान व सांसद पर  कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का हमला सीधे तौर पर लोकतंत्र की हत्या है. (फाइल फोटो)

सुखबीर सिंह बादल ने कहा, एक अग्रणी पार्टी के प्रधान व सांसद पर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का हमला सीधे तौर पर लोकतंत्र की हत्या है. (फाइल फोटो)

सुखबीर सिंह बादल ने कहा, 'इन दिनों पुलिस और सिविल प्रशासन कांग्रेस सरकार के इशारों पर काम कर रहे हैं. बुधवार को वह फिरोजपुर शहर की मार्केट कमेटी में बने नामांकन केंद्र के बाहर वर्करों के साथ बैठे हुए थे.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 10:48 PM IST
  • Share this:

चंडीगढ़. अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल (Akali Dal chief Sukhbir Singh Badal) ने चुनाव आयोग से 14 फरवरी को होने वाले निकाय चुनावों में पैरा मिलिट्री फोर्स (Para Military Force) लगाने की मांग की है. उन्होंने कहा कि इन दिनों पुलिस और सिविल प्रशासन कांग्रेस सरकार के इशारों पर काम कर रहे हैं. बुधवार को वह फिरोजपुर शहर की मार्केट कमेटी में बने नामांकन केंद्र के बाहर वर्करों के साथ बैठे हुए थे.

उन्होंने कहा कि एक अग्रणी पार्टी के प्रधान व सांसद पर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का हमला सीधे तौर पर लोकतंत्र की हत्या है. उन्होंने कहा कि चुनाव वाले हर मतदान केंद्रों पर शिअद के कार्यकर्ता मौजूद रहेंगे और कांग्रेस की गुंडागर्दी कतई बर्दाशत नहीं की जाएगी. बादल ने आरोप लगाया कि कैप्टन सरकार की शह पर राज्य में गुंडागर्दी का माहौल है.मंगलवार को जलालाबाद में शिअद के काफिले पर हुए हमले में घायल सोनू को देखने के लिए सुखबीर बादल बुधवार शाम फरीदकोट मेडिकल कालेज पहुंचे. सुखबीर ने सोनू से मिलकर उसका कुशलक्षेम पूछा.

Youtube Video

बादल पर हमले के बाद 60 लोगों के खिलाफ हुई है FIR
शिअद प्रमुख और फिरोजपुर के सांसद बादल और उनके समर्थक जलालाबाद प्रशासनिक परिसर पहुंचे जहां उनकी पार्टी के उम्मीदवारों को नगर निकाय चुनाव के लिए नामांकन दायर करना था. शिअद कार्यकर्ताओं ने दावा किया कि इस बीच, जलालाबाद से विधायक रमिंदर आवला के बेटे के साथ कांग्रेस के कार्यकर्ता भी वहां पहुंच गए.

ये भी पढ़ेंः- Farmer Protest: पॉप और पॉर्न स्टार को सचिन तेंदुलकर का दो टूक जवाब, देश की संप्रभुता से समझौता नहीं

Youtube Video



पुलिस ने बताया कि इसके बाद दोनों समूहों में बहस होने लगी और फिर कांग्रेस ने बादल का विरोध करने के लिए उनकी गाड़ी का घेराव किया जिससे हिंसक संघर्ष शुरू हो गया. इस दौरान दोनों समूहों ने एक दूसरे पर पथराव किया और कुछ गोलियां भी चलाई गईं.सिलसिले में कांग्रेस विधायक रामिंदर सिंह आवला और उनके बेटे समेत 60 अन्य अज्ञात आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज