Summer Season, Google ने बनाया हैप्पी समर 2019 पर Doodle, भारत में गर्मी ने मचाई है तबाही

Summer Season, Google Doodle Today (समर सीज़न): इसमें कोई दो राय नहीं कि पश्चिमी देशों में गर्मियों को उत्सव की तरह मनाया जाता है, लेकिन भारत की परि‌स्थितियों से फिलहाल यह गूगल-डूडल एकदम विपरीत है.

News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 2:46 PM IST
Summer Season, Google ने बनाया हैप्पी समर 2019 पर Doodle, भारत में गर्मी ने मचाई है तबाही
आज से नॉर्दन हेमिस्फीयर में गर्मी की शुरुआत मानी जाती है. यह 23 सितंबर तक चलती है. इसमें कोई दो राय नहीं कि पश्चिमी देशों में गर्मियों को उत्सव की तरह मनाया जाता है, लेकिन भारत की परि‌स्थितियों से फिलहाल यह गूगल-डूडल एकदम विपरीत है.
News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 2:46 PM IST
गूगल ने डूडल बनाकर गर्मियों के‌ लिए बधाई दी है. हैप्पी समर 2019 शीर्षक से बनाए गए इस डूडल में एक सुनहरी गर्मी की परिकल्पना की है. साथ ही हरे और नीले रंग के इस्तेमाल से गर्मियों के दिनों में एक मौसम के सुहाने होने की अभिव्यक्ति की है. असल में आज से नॉर्दन हेमिस्फीयर में गर्मी की शुरुआत मानी जाती है. यह 23 सितंबर तक चलती है. इसमें कोई दो राय नहीं कि पश्चिमी देशों में गर्मियों को उत्सव की तरह मनाया जाता है, लेकिन भारत की परि‌स्थितियों से फिलहाल यह गूगल-डूडल एकदम विपरीत है. भारत में गर्मियों को उत्सव की तरह मनाने की कभी परंपरा नहीं रही.

बल्कि भारत की राष्ट्रीय राजधानी में इस बार भीषण गर्मी के कारण ओजोन का स्तर कई गुना बढ़ गया है, जिससे लेागों की सेहत को गंभीर खतरा हो सकता है. हाल ही में यह जानकारी एक अध्ययन में सामने आई. इसमें औद्योगिक और गाड़ियों से होने वाले उत्सर्जन को नियंत्रित करने की जरूरत बताई गई.

गर्मियों के चलते हालत खराब
असल में पर्यावरण थिंक टैंक सीएसई ने कहा कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की ओर से रोज जारी होने वाले वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) के मुताबिक ओजोन पार्टिकुलेट मैटर के साथ एक प्रमुख प्रदूषक के रूप में उभर रहा है, खासतौर पर दिल्ली और एनसीआर के इलाकों में. इसी तरह सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरमेंट (सीएसई) ने कहा कि एक्यूआई के मुताबिक, एक अप्रैल से पांच जून 2019 के दौरान 28 दिनों तक ओजोन पार्टिकुलेट मैटर के साथ एक प्रमुख प्रदूषक रहा, जो काफी हैरान करने वाला है.

उसने बताया कि 2018 में इसी अवधि में, 17 दिनों के लिए ओजोन पार्टिकुलेट मैटर के साथ एक प्रमुख प्रदूषक रहा. अध्ययन में बताया गया है कि ओज़ोन का स्तर फरीदाबाद और गाजियाबाद में भी ज्यादा था.

यह भी पढ़ेंः बदलने वाला है Samsung का ये फोन, मिला पहला सॉफ्टवेयर अपडेट

लू लगने से सैकड़ों जानें गईं
Loading...

भारत में तेज धूप और लू के चलते 2019 में ही सैकड़ों जानें जा चुकी हैं. एक आंकड़े के मुताबिक अब तक 2019 में भारत के राज्य बिहार में गर्मी से मरने वालों का आंकड़ा 101 पहुंच गया है. जबकि देशभर में यह आंकड़ा 300 लोगों से ज्यादा पहुंच गया है.

चेन्नई में पानी के लिए हाहाकार
गर्मी आने के चलते देशभ्रर में एक बार फिर से पानी समस्या उभर गई है. वर्तमान में सबसे ज्यादा हालत तमिलनाडु के चेन्नई की खराब है. गर्मी और उसके चलते पानी का लेयर नीचे जाने से शहर में पानी की आपूर्ति बुरी तरह घट गई है. यहां होटल, स्कूल जैसी कई सेवाएं ठप पड़ गई हैं. कपनियां अपने कर्मचारियों से घर से काम करने को कह रही हैं.

बेसब्री से रहा है मॉनसून का इंतजार
करीब एक पखवाड़े की देरी के बाद दक्षिण-पश्चिम मानसून बृहस्पतिवार को गोवा पहुंच ही गया. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी. आईएमडी ने इससे पहले शुक्रवार को मानसून के पहुंचने की संभावना जताई थी. हालांकि गुरुवार दोपहर में जारी एक बयान में विभाग ने कहा, ‘‘दक्षिणी-पश्चिमी मानसून आज गोवा पहुंच गया.’’

आईएमडी ने पूर्वानुमान लगाया है कि 40-50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाली हवाएं दक्षिण-पश्चिम और इसके पड़ोसी पश्चिम-मध्य अरब सागर में बृहस्पतिवार को शुक्रवार को चलेंगी. अभी विस्तृत मौसम बुलेटिन की प्रतीक्षा की जा रही है. आईएमडी के अधिकारियों ने बताया कि सामान्य तौर पर गोवा में मानसून जून के पहले सप्ताह में पहुंच जाता है लेकिन इस साल करीब एक पखवाड़े की देरी से यहां पहुंचा है.

गूगल डूडल भारत में नहीं है प्रासंगिक
पश्चिमी देशों में लगातार नौ से दस महीने तक ठंड और बरसात का मौसम रहता है. इसलिए गर्मी के मौसम का इंतजार रहता है. इसके आने पर लोगों में खुशी रहती है.

यह भी पढ़ेंः टाटा स्काई का छमाही पैक, कम पैसे में मिलेगा ज्यादा फायदा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 21, 2019, 12:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...