Home /News /nation /

सुनंदा पुष्कर मौत केस : दिल्ली की अदालत ने आरोप तय करने को 27 जुलाई तक टाली सुनवाई

सुनंदा पुष्कर मौत केस : दिल्ली की अदालत ने आरोप तय करने को 27 जुलाई तक टाली सुनवाई

सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में अदालत ने आरोप तय करने पर फैसले को एक फिर अगली तारीख तक के लिए स्थगित कर दिया है.

सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में अदालत ने आरोप तय करने पर फैसले को एक फिर अगली तारीख तक के लिए स्थगित कर दिया है.

पुष्कर 17 जनवरी 2014 की रात शहर के एक लग्जरी होटल के सुइट में मृत पाई गई थी. इस मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर मुख्य आरोपी हैं. उन पर पत्नी सुनंदा पुष्कर को दहेज के लिए प्रताड़ित करने और आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप है.

अधिक पढ़ें ...
नई दिल्ली. दिल्ली के राऊज एवेन्यू कोर्ट ने सुनंदा पुष्कर की मौत मामले में उनके पति और कांग्रेस नेता शशि थरूर के खिलाफ आरोप तय करने को लेकर फैसला 27 जुलाई तक के लिए टाल दी है. अदालत ने कोरोना महामारी के ध्यानार्थ अपना फैसला 27 जुलाई तक के लिए स्थगित किया है.
विशेष न्यायाधीश गीतांजली गोयल ने दिल्ली पुलिस और थरूर की तरफ से पेश वकीलों की दलीलें सुनने के बाद 12 अप्रैल को फैसला सुरक्षित रखा था. जिरह के दौरान पुलिस ने जहां आईपीसी की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाने) सहित विभिन्न धाराओं के तहत आरोप तय करने का आग्रह किया.

वहीं थरूर की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता विकास पाहवा ने कोर्ट में दलील देते हुए कहा कि एसआईटी द्वारा की गई जांच में उनके मुवक्किल को पूरी तरह दोषमुक्त माना गया है. पाहवा ने थरूर को आरोपमुक्त करने का कोर्ट से आग्रह करते हुए कहा है कि उनके मुवक्किल के खिलाफ धारा 498ए (पति या उसके किसी रिश्तेदार द्वारा महिला के साथ क्रूरता) या 306 (आत्महत्या के लिए उकसाना) के तहत लगाए गए आरोपों का कोई सबूत नहीं है.

इस मामले में कोर्ट से आने वाला आदेश बेहद अहम होगा क्योंकि कोर्ट के इस आदेश से साफ होगा कि सात साल पुराने इस मामले में कांग्रेस नेता शशि थरूर पर उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला कोर्ट में चलेगा या नहीं. कोर्ट के इस फैसले से यह भी साफ होगा सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में शशि थरूर को राहत मिलेगी या फिर उनकी मुश्किलें और बढ़ेंगी. गौरतलब है कि 7 साल पुराने मामले में शशि थरूर को आज तक एक भी बार गिरफ्तार नहीं किया गया है.

ये भी पढ़ेंः- रिटायरमेंट के बाद अधिकारियों को न मिले एक्सटेंशन, जानें IRS एसोसिएशन ने पीएम मोदी को क्यों लिखा ऐसा खत

पुष्कर 17 जनवरी 2014 की रात यहां एक होटल में मृत मिली थीं. उक्त दंपत्ति होटल में रह रहा था क्योंकि उस समय थरूर के आधिकारिक बंगले की साज-सज्जा का काम चल रहा था. दिल्ली पुलिस ने थरूर के खिलाफ धारा-498 ए और 306 के तहत मामला दर्ज किया था लेकिन उन्हें गिरफ्तार नहीं किया था. पांच जुलाई 2018 को थरूर को जमानत मिल गई थी.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर