सुप्रीम कोर्ट ने कहा, सेक्स वर्कर्स को राशन और बुनियादी सुविधाएं दे केंद्र सरकार

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से सेक्स वर्कर्स को उचित सुविधाएं देने को कहा है. (PTI फोटो)
सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से सेक्स वर्कर्स को उचित सुविधाएं देने को कहा है. (PTI फोटो)

सुप्रीम कोर्ट (supreme court) ने कहा, सेक्स वर्करों (Sex Workers) को राहत देने के लिए ऐसे कदम उठाने पर विचार कर सकते हैं, जो ट्रांसजेंडर समुदाय (Transgender Community) की मदद के लिए उठाए गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2020, 2:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में काफी समय से चले आ रहे लॉकडाउन (Lockdown) ने कई लोगों की रोजी रोटी पर संकट ला दिया है. लॉकडाउन का असर सेक्स वर्करों (Sex Workers) पर भी पड़ा है. यही कारण है कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सोमवार को एक याचिका की सुनवाई के दौरान केंद्र और राज्य सरकारों को सेक्स वर्करों को सभी बुनियादी सुविधएं देने का निर्देश दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि सेक्स वर्कस लॉकडाउन के चलते काफी मुश्किल में हैं इस ओर तुरंत ध्यान देने की जरूरत है.

कोर्ट ने सुनवाई के दौरा केंद्र सरकार से कहा कि सेक्स वर्कर्स को राशन कार्ड के बिना राशन और बुनियादी जरूरतें मुहैया कराई जाएं. जस्टिस एल नागेश्वर राव की अध्यक्षता वाली बेंचे ने याचिका की सुनवाई करते हुए कहा कि अधिकारी सेक्स वर्करों को राहत देने के लिए ऐसे कदम उठाने पर विचार कर सकते हैं, जो ट्रांसजेंडर समुदाय की मदद के लिए उठाए गए हैं. मामले की सुनवाई अगले हफ्ते तक के लिए स्थगित कर दी गई है.

इसे भी पढ़ें :- कोरोना काल में सावधानियों के साथ फिर शुरू कोठों पर धंधा, इनके लिए बने SOP में नहाना भी शामिल
बता दें कि लॉकडाउन के दौरान संकट का सामना कर रहे ट्रांसजेंडर वर्ग ने सरकार से भत्ते की मांग की थी, जिसके बाद सरकार ने मई में उन्हें भत्ता देने की घोषणा की थी. सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावर चंद्र गहलोत ने ट्रांसजेंडर की शिकायतों को देखते हुए 1500 रुपेय निर्वाह भत्ता देने का फैसला किया था. बता दें कि देशभर में लगभग 4922 ट्रांसजेंडर को इस सुविधा का लाभ दिया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज