लाइव टीवी

दिल्ली के प्रदूषण पर सुप्रीम कोर्ट की केंद्र को फटकार, कहा- पेट्रोल की जगह हाइड्रोजन से गाड़ी चलाने का ढूंढें उपाय

News18Hindi
Updated: November 13, 2019, 12:42 PM IST
दिल्ली के प्रदूषण पर सुप्रीम कोर्ट की केंद्र को फटकार, कहा- पेट्रोल की जगह हाइड्रोजन से गाड़ी चलाने का ढूंढें उपाय
दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बेहद खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है.

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में ये भी कहा कि जापान ने इसी टेक्नोलॉजी के जरिए प्रदूषण का स्तर कम किया है. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में केंद्र से 3 दिसंबर तक जवाब मांगा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2019, 12:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) की दम घोंटू हवा और प्रदूषण (Air Pollution) पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने केंद्र को कड़ी फटकार लगाई. शीर्ष अदालत ने इसके साथ ही केंद्र सरकार को हाइड्रोजन आधारित फ्यूल टेक्नोलॉजी (Hydrogen-based Fuel Technology) खोजने को कहा है, ताकि जानलेवा वायु प्रदूषण का स्तर और असर कम करने के लिए कोई समाधान निकाला जा सके. कोर्ट ने अपने आदेश में ये भी कहा कि जापान ने इसी टेक्नोलॉजी के जरिए प्रदूषण का स्तर कम किया है. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में केंद्र से 3 दिसंबर तक जवाब मांगा है.

सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण को कम करने में नाकाम रही सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा, 'नई दिल्ली समेत उत्तरी भारत के अन्य हिस्सों में प्रदूषण का स्तर इतना बढ़ चुका है कि लोगों का सांस लेना दूभर है. ऐसे में केंद्र सरकार देखे कि क्या पेट्रोल के बजाय हाइड्रोजन आधारित फ्यूल टेक्नोलॉजी एक समाधान के रूप में कारगर साबित हो सकती है.'

बेंच ने क्या कहा?
प्रधान न्यायाधीश (CJI) रंजन गोगोई की अगुआई वाली बेंच ने कहा, 'प्रदूषण का स्तर कम करने के लिए सरकार ने थोड़े-बहुत निर्णायक प्रयास किए हैं, लेकिन अब समस्या के समाधान के लिए कुछ बड़े उपाय तलाशने होंगे. पूरा उत्तरी भारत... एनसीआर वायु प्रदूषण की समस्या से जूझ रहा है.'


Loading...



कोर्ट में जापान के एक्सपर्ट भी थे मौजूद
सुप्रीम कोर्ट ने जापान के एक्सपर्ट को भी तलब किया था. एक्सपर्ट ने कोर्ट को बताया कि कैसे जापान ने गाड़ियां चलाने के लिए हाइड्रोजन आधारित फ्यूल टेक्नोलॉजी इजाद की, जो प्रदूषण को नियंत्रित करने में बहुत कारगर साबित हुई.

कोर्ट ने जापान के एक्सपर्ट की बात सुनने के बाद केंद्र सरकार को हाइड्रोजन आधारित फ्यूल टेक्नोलॉजी पर 3 दिसंबर तक फिज़िबिलिटी रिपोर्ट पेश करने को कहा है.


दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बेहद खतरनाक
बता दें कि देश की राजधानी दिल्ली में स्मॉग (Smog) का कहर इस कदर है कि लोग सूरज के दर्शन करने को तरस गए हैं. ऑड-इवन (Odd-Even) हो, पराली जलाने पर रोक या फिर निर्माण को बंद करना सभी कोशिशें अब नाकाम होती नजर आ रही हैं. दिल्ली और नोएडा में खासकर बढ़ता पॉल्यूशन अब लोगों को परेशान कर रहा है.

 



कितना है एयर क्वालिटी इंडेक्स
बुधवार को दिल्ली के लोधी रोड पर पीएम 2.5 एयर क्वालिटी इंडेक्स में 500 का स्तर छू गया. यह बेहद गंभीर स्थिति है. वहीं, मौसम विभाग (IMD) के अनुसार बुधवार को दिल्ली में प्रदूषण का स्तर इमरजेंसी जोन में आ सकता है.

मौसम विज्ञानियों ने जताई है ‌चिंता
पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव माधवन राजीवन ने ट्वीट किया, 'पूर्वानुमान के मुताबिक हवा की गुणवत्ता 14 नवंबर तक बेहद गंभीर श्रेणी में पहुंचने की आशंका है.' मौसम विशेषज्ञों ने बताया कि न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 11.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विज्ञान विभाग के क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि सर्दियों के आगाज के साथ ही, न्यूनतम तापमान में गिरावट से हवा में ठंडक बढ़ गई है और भारीपन आ गया है जिससे प्रदूषक तत्व जमीन के निकट जमा हो रहे हैं. (CNBC आवाज़ की रिपोर्ट के साथ)

ये भी पढ़ें: 

दिल्ली में फिर AQI पहुंचा 500, नोएडा-फरीदाबाद में भी बिगड़ रही स्थिति
आज 'इमरजेंसी' में पहुंच सकती है दिल्ली की हवा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 11:48 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...