PM के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन के आरोपों पर EC 6 मई तक करे फैसला: SC

PM के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन के आरोपों पर EC 6 मई तक करे फैसला: SC
सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को यह आदेश दिया है कि वो कांग्रेस द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर लगाए गए आचार संहिता उल्लंघन के आरोपों पर 6 मई से पहले फैसला करे.

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को यह आदेश दिया है कि वो कांग्रेस द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर लगाए गए आचार संहिता उल्लंघन के आरोपों पर 6 मई से पहले फैसला करे.

  • Share this:
सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को यह आदेश दिया है कि वो कांग्रेस द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर लगाए गए आचार संहिता उल्लंघन के आरोपों पर 6 मई से पहले फैसला करे.

बता दें सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन के मामले में चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया था. इस मामले की अगली सुनवाई 2 मई यानी गुरुवार को होनी थी. कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव ने एक याचिका दायर कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह के खिलाफ आचार संहिता उल्‍लंघन का आरोप लगाया था.


 



बता दें कि असम के सिलचर से कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव ने याचिका में कहा है कि चुनाव आयोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह के खिलाफ दर्ज शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई थी कि आयोग को दोनों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया जाए.

ये भी पढ़ें- पीएम की शिकायत लेकर चुनाव आयोग के पास पहुंची TMC, कहा-रद्द करें नामांकन

याचिका में सुष्मिता देव ने पीएम मोदी और अमित शाह पर चुनावी भाषणों में सेना के नाम पर मतदाताओं से अपील कर आचार संहिता का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है. साथ ही कहा है कि चुनाव आयोग उनकी शिकायतों पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है. उन्होंने चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की पीठ से गुहार लगाई कि चुनाव आयोग को दोनों के खिलाफ की गई शिकायतों पर 24 घंटे के भीतर कार्रवाई करने का आदेश दिया जाए. इस पर पीठ ने कहा था कि मामले की अगली सुनवाई 30 अप्रैल को की जाएगी. अब इसी मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 2 मई को सुनवाई कर चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया है.

ये भी पढ़ें- वाराणसी में पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ उतरे 101 प्रत्याशी, EC की बढ़ी मुश्किलें

कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि पीएम मोदी ने मतदान के दिन 23 अप्रैल को गुजरात में रैली और रोड शो किया. यह आचार संहिता का सीधा उल्लंघन है. चुनाव आयोग से इसकी शिकायत की गई थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई. इससे पहले 9 अप्रैल को भी पीएम ने एक जनसभा में पुलवामा हमले में शहीद सीआरपीएफ जवानों के नाम पर वोट मांगे. यही नहीं, पीएम मोदी और अमित शाह नफरत भरे भाषण भी दे रहे हैं.

बता दें चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लातूर में दिए बयान पर बुधवार को क्लीन चिट दे दी है. चुनाव आयोग ने स्पष्ट किया कि प्रधानमंत्री मोदी का बयान चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन नहीं करता है.
प्रधानमंत्री मोदी ने 9 अप्रैल को लातूर में एक रैली को संबंधित करते हुए कहा था कि मैं पहली बार मतदान करने वालों से कहना चाहता हूं, क्या आपका पहला वोट वीर जवानों को समर्पित हो सकता है, जिन्होंने पाकिस्तान में हवाई हमले किए.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading