Union Budget 2018-19 Union Budget 2018-19
LIVE NOW

सुप्रीम कोर्ट का विवाद सोमवार तक सुलझ जाएगा: एटॉर्नी जनरल

Hindi.news18.com | January 13, 2018, 7:02 PM IST
facebook Twitter google Linkedin
Last Updated 2 days ago
auto-refresh
सुप्रीम कोर्ट के चार जजों की तरफ से चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा के खिलाफ खुलेआम आवाज़ बुलंद करने से पूरा देश हैरान है. सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने चारों सीनियर जजों के आरोपों को लेकर आज मीटिंग बुलाई है. वहीं, एटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने उम्मीद जताई है कि सोमवार तक सारा मामला सुलझ जाएगा.

एटॉर्नी जनरल वेणुगोपाल ने कहा, "सोमवार को कानूनविद् और वकील सुप्रीम कोर्ट के जजों के बीच एकता देखेंगे. उम्मीद है कि लोगों के हित में इंस्टिट्यूशन का पूरा मामला सुलझा लिया जाएगा. जजों न्याय और शासन कला का अनुभव है. आशा है कि वो इस मसले को और बढ़ने नहीं देंगे."

शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में जस्टिस जे चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन मौजूद रहे. जस्टिस जे. चेलमेश्वर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट प्रशासन सही तरीके से नहीं चल रहा है. हम चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया(सीजेआई) को समझाने में नाकाम रहे हैं. कुछ चीजें नियंत्रण के बाहर हो गई हैं. इस कारण हमारे पास मीडिया में बात करने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा.

जजों की ओर से लगाए गंभीर आरोप को कांग्रेस ने लोकतंत्र को खतरे में होना बताया है. चारों जजों के द्वारा उठाए मुद्दों को ‘बेहद महत्वपूर्ण’ बताते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा चारों जजों ने जिन बातों का जिक्र किया है वे लोकतंत्र के लिए खतरनाक हैं.

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट के मसले पर राहुल गांधी राजनीति कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि यह सुप्रीम कोर्ट का आंतरिक मामला है. देश में न्यायपालिका इंडिपेंडेंट भूमिका निभाती है और एटॉर्नी जनरल ने इस मुद्दे पर अपनी राय दे दी है. इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए.
7:02 pm (IST)

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्‍यक्ष विकास सिंह ने बताया कि आपात मीटिंग में यह प्रस्‍ताव पास किया गया कि सभी जनहित याचिकाओं पर सीजेआई या पांच जजों का कॉलेजियम सुनवाई करे. ऐसा सुप्रीम कोर्ट की विश्‍वसनीयता बनाए रखने के लिए किया जाए.


7:01 pm (IST)

सुप्रीम कोर्ट के जजों के बीच विवाद को लेकर उच्‍चतम न्‍यायाल के वकीलों की बार काउंसिल ने भी बैठक की. इसमें चार जजों की ओर से उठाई गई समस्‍याओं को जल्‍द से जल्‍द सुलझाने पर सहमति बनी. 


3:54 pm (IST)

एटॉर्नी जनरल वेणुगोपाल ने कहा, "सोमवार को कानूनविद् और वकील सुप्रीम कोर्ट के जजों के बीच एकता देखेंगे. उम्मीद है कि लोगों के हित में इंस्टिट्यूशन का पूरा मामला सुलझा लिया जाएगा. जजों न्याय और शासन कला का अनुभव है. आशा है कि वो इस मसले को और बढ़ने नहीं देंगे."  

 

3:41 pm (IST)

भारत के एटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने उम्मीद जताई है कि सोमवार तक सारा मामला सुलझ जाएगा.

3:39 pm (IST)


जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कहा, "मामले को जल्द ही सुलझा लिया जाएगा. उम्मीद है कि इस एक्शन से सुप्रीम कोर्ट के प्रशासन में ज्यादा पारदर्शिता आएगी. कोई संवैधानिक समस्या नहीं है. हमने सारे मुद्दे चिट्ठी में लिख दिया है."

3:36 pm (IST)

सुप्रीम कोर्ट के मामले में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा, "कल जो भी हुआ बहुत दुखद था. चार जजों के खिलाफ एक्शन लिया जा सकता है, लेकिन उससे पहले यह बात अहम है कि हम उन मुद्दों पर मंथन करें, जो इन जजों ने उठाए हैं. लोकतंत्र के चारों स्तंभों को स्वतंत्र रूप से खड़ा होना चाहिए. अगर वे एक दूसरे के खिलाफ होंगे, तो लोकतंत्र गिर जाएगा." 

 


3:30 pm (IST)

सुप्रीम कोर्ट एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड एसोसिएशन के वकील ने कहा- 'SCAORA की एक्जिक्यूटिव कमिटी इस पूरे मामले पर चिंतित है, जिससे हमारे सम्मानित इंस्टिट्यूशन की इमेज पर धब्बा लगा है. सभी पक्षों को संवैधानिक दायरे में रहते हुए इस मामले को सुलझाने की कोशिश करनी चाहिए.'

 

1:12 pm (IST)

बार काउंसिल के चेयरमैन मनन कुमार मिश्रा ने कहा- "रोस्टर जैसे छोटे मामले को लेकर प्रेस कांफ्रेंस करना दुखद है. हमने आज शाम 5 बजे मीटिंग बुलाई है. कल सुबह हमारे डेलिगेशन चारों जजों, सीजेआई और अन्य जजों से मिलेंगे. उनसे गुजारिश करेंगे कि वे ऐसे मामलों को इस तरह जनता के सामने ना लाएं." 


1:04 pm (IST)

शुक्रवार को मीडिया के सामने चारों जजों ने कहा था कि कभी-कभी होता है कि देश में सुप्रीम कोर्ट की व्यवस्था भी बदलती है. सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरीके से काम नहीं कर रहा है, अगर ऐसा चलता रहा तो लोकतांत्रिक परिस्थिति ठीक नहीं रहेगी.

 

12:33 pm (IST)


शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जज जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ मीडिया से मुखातिब हुए थे. चारों जजों ने सुप्रीम कोर्ट को लेकर चिंता जाहिर की थी. उन्होंने कहा कि अगर हमने देश के सामने ये बातें नहीं रखी और हम नहीं बोले तो लोकतंत्र खत्म हो जाए.

 

12:27 pm (IST)

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने कहा यह एक गंभीर मामला है. उन लोगों को इस पर आवाज़ जरूर उठानी चाहिए, जिन्हें देश के भविष्य और लोकतंत्र को लेकर फिक्र है.

12:04 pm (IST)

सूत्रों के मुताबिक, चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले चारों जज सुप्रीम कोर्ट के अन्य जज़ों से भी इस विवाद को लेकर बातचीत कर रहे हैं.

11:58 am (IST)
खबर है कि अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल सुप्रीम कोर्ट के चारों जजों से मुलाकात करेंगे. शनिवार सुबह अपने आवास से बाहर जाते हुए मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा, 'आशा है कि सारी चीज़ें ठीक हो जाएंगी.'


11:54 am (IST)
इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्र प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा से मिलने के लिए दिल्ली स्थित उनके आवास पहुंचे. उनकी इस मुलाकात से किसी बड़े फैसले की अटकलें लगाई जा रही हैं. बताया जा रहा है कि प्रधान सचिव का एक सहायक CJI के कैंप ऑफिस गया और मिनटों में ही वापस आ गया, इसके बाद नृपेंद्र मिश्रा की कार वहां से रवाना हो गई.


11:54 am (IST)
सुप्रीम कोर्ट के बार एसोसिएशन के प्रेसिडेंट विकास सिंह का कहना है, "अगर उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, तो उन्हें कुछ ठोस बातें कहनी चाहिए थी. लोगों के मन में बस आशंका भर देना न्यायपालिका के हित में नहीं होगा. इसकी ठीक ढंग से योजना नहीं बनाई गई. इन्होंने ने जस्टिस लोया को लेकर भी कुछ नहीं कहा."


11:54 am (IST)

चारों जजों के आरोपों को लेकर सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने शनिवार शाम बैठक बुलाई है. बार एसोसिएशन की इस मीटिंग में जस्टिस जे चेलामेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन बी लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा पर लगाए गए आरोपों पर विचार किया जाएगा. इसके बाद बार काउंसिल प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करने वाला है.

LOAD MORE