येदियुरप्पा सरकार पर लटकी तलवार! कल शाम 4 बजे होगा फ्लोर टेस्ट

बता दें कि कर्नाटक चुनाव में बीजेपी 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी. वहीं कांग्रेस (78) और जेडीएस (38) ने गठबंधन कर लिया और दो निर्दलीय विधायक भी उनके साथ आ गए. इस तरह इस गठबंधन के पास कुल 118 विधायकों का समर्थन है.

News18Hindi
Updated: May 18, 2018, 1:40 PM IST
येदियुरप्पा सरकार पर लटकी तलवार! कल शाम 4 बजे होगा फ्लोर टेस्ट
नेटवर्क18 क्रिएटिव
News18Hindi
Updated: May 18, 2018, 1:40 PM IST
कर्नाटक में सरकार बनाने को लेकर जारी हलचल के बीच सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि विधानसभा में शनिवार शाम चार बजे शक्ति परीक्षण होगा. कोर्ट के इस फैसले के बाद अब येदियुरप्पा को सदन में अपना बहुमत साबित करना होगा.

बता दें कि कर्नाटक चुनाव में बीजेपी 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी. विधानसभा की 224 में से 222 सीटों पर मतदान हुआ था. ऐसे में सदन में बहुमत के लिए किसी पार्टी को कम से कम 112 विधायकों की जरूरत है. चुनाव के बाद कांग्रेस (78) और जेडीएस (38) ने गठबंधन कर लिया और दो निर्दलीय विधायक भी उनके साथ आ गए. इस तरह इस गठबंधन के पास कुल 118 विधायकों का समर्थन है.

दोनों ही पक्षों ने राज्यपाल वजुभाई वाला के सामने सरकार बनाने का दावा पेश किया. राज्यपाल ने बहुमत वाले कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की बजाए सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को सरकार बनाने का न्यौता दिया. इसे लेकर विवाद पैदा हो गया है. येदियुरप्पा ने गुरुवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है.

राज्यपाल ने किस आधार पर बीजेपी को सरकार बनाने का न्यौता दिया यह देखने के लिए जस्टिस एके सीकरी की तीन सदस्यीय बेंच ने शुक्रवार को येदियुरप्पा और कांग्रेस-जेडीएस के समर्थन पत्रों की कॉपी मंगवाई थी.

बीजेपी की ओर से वकील मुकुल रोहतगी ने कोर्ट को बताया कि बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी है इसलिए उसे सरकार बनाने का पहला मौका दिया जाना चाहिए था. उन्‍होंने यह भी तर्क दिया कि कांग्रेस और जेडीएस ने बाद में गठबंधन किया गया था. इस दौरान मुकुल रोहतगी ने येदियुरप्‍पा की दोनों चिट्ठी कोर्ट को सौंपी थीं जो राज्‍यपाल को सौंपी गई थी. वहीं कांग्रेस की ओर से वकील अभिषेक मनु सिंघ्‍ावी ने कहा कि येदियुरप्‍पा ने जब विधायक के नाम ही नहीं बताए तो वह सरकार कैसे बना सकते हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी की कि यह नंबर गेम है और राज्यपाल को देखना चाहिए कि किस पार्टी के पास सबसे ज्यादा नंबर हैं. जस्टिस सीकरी ने कहा कि फ्लोर टेस्ट इसका सबसे बेहतर ऑप्शन हो सकता है. उन्होंने सवाल किया कि फ्लोर टेस्ट शनिवार को ही क्यों नहीं हो सकता है? इस पर कांग्रेस ने कहा कि वह फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार है. कांग्रेस ने अपने विधायकों की सुरक्षा की मांग की. वहीं बीजेपी की तरफ से मुकुल रोहतगी ने कहा कि उन्हें और समय चाहिए. इस पर कोर्ट ने कहा कि इसके लिए और समय नहीं दिया जा सकता है.

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक विधानसभा में कल शाम 4 बजे फ्लोर टेस्ट कराए जाने का आदेश दिया है. प्रोटेम स्पीकर आरवी देशपांडे पूरे टेस्ट पर नज़र रखेंगे.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर