SC ने कहा- मुल्लापेरियार बांध का जल स्तर तीन फुट किया जाए कम

SC ने कहा- मुल्लापेरियार बांध का जल स्तर तीन फुट किया जाए कम
केरल में राहत और बचाव कार्य की तस्वीर- NEWS18

सीजेआई दीपक मिश्रा और जस्टिस डीवाई चन्द्रचूड़ की पीठ ने केरल और तमिलनाडु सरकार से कहा कि विस्थापित हुये लोगों के पुनर्वास और बांध का जल स्तर 142 फुट से घटाकर 139 फुट करने के राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति के निर्देशों का पालन करें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 17, 2018, 3:03 PM IST
  • Share this:
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति और बाढ़ की स्थिति से निबटने के लिये केरल सरकार द्वारा गठित उपसमिति से कहा कि मुल्लापेरियार बांध का जल स्तर तीन फुट कम करने की संभावनाओं को तलाशा जाये.

सीजेआई दीपक मिश्रा और जस्टिस डीवाई चन्द्रचूड़ की पीठ ने केरल और तमिलनाडु सरकार से कहा कि विस्थापित हुये लोगों के पुनर्वास और बांध का जल स्तर 142 फुट से घटाकर 139 फुट करने के राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति के निर्देशों का पालन करें.

पीठ ने कहा कि वह इस तरह की गंभीर प्राकृतिक आपदा से निबटने में विशेषज्ञ नहीं है और आपदा पर काबू पाने का मामला कार्यपालिका पर छोड़ रही है. शीर्ष अदालत ने केरल सरकार को आपदा प्रबंधन और पुनर्वास उपायों के बारे में उठाये गये कदमों पर एक रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया.



यह भी पढ़ें: केरल बाढ़: चाय, कॉफी और मसालों की फसल खराब, हुआ इतने करोड़ का नुकसान



दक्षिण भारत के इस राज्य में मानसून की विभीषिका में अब तक 167 से अधिक व्यक्तियों की मौत हो चुकी है जबकि बारिश और बाढ़ से फसलों और अन्य संपत्तियों को बहुत अधिक नुकसान हुआ है. बारिश और मुल्लापेरियार, चेरूथोनी, इडुक्की जलाशय तथा ईदमलायर जलाशय के एक हिस्से सहित सारे बड़ें बांधों के दरवाजे खोले जाने की वजह से पेरियार नदी में जल स्तर बढ़ने से निचले इलाके के लोगों का जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है.

यह भी पढ़ें: केरल PSC ने 17-18 अगस्त की भर्ती प्रक्रिया पर लगाई रोक, बाढ़ के कारण रेलवे की परीक्षाएं भी टलीं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading