Home /News /nation /

किसान आंदोलन : सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली की सीमाएं खुलवाने के लिए लगाई गई याचिका खारिज की, जज बोले- अब इसका कोई मतलब नहीं

किसान आंदोलन : सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली की सीमाएं खुलवाने के लिए लगाई गई याचिका खारिज की, जज बोले- अब इसका कोई मतलब नहीं

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

Supreme Court : नोएडा, उत्तर प्रदेश की मोनिका अग्रवाल ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में यह याचिका दायर की थी. इसमें उन्होंने दलील दी थी कि किसानों ने महीनों से दिल्ली की सीमाओं (Delhi Borders) को बंद कर रखा है. इससे उन्हें दिल्ली पहुंचने में 20 मिनट के बजाय दो घंटे का समय लग जाता है. उनकी तरह दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों से जुड़े लाखों लोगों को ऐसी ही परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने मंगलवार को वह याचिका खारिज कर दी, जिसमें किसान आंदोलन (Farmers Protest) वह वजह से बंद दिल्ली की सीमाएं (Delhi Borders) खुलवाने की मांग की गई थी. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के जस्टिस संजय किशन कौल की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि अब इस याचिका का कोई मतलब नहीं है. क्योंकि किसान आंदोलन (Farmers Protest) पहले ही खत्म हो चुका है. दिल्ली की सीमाएं भी खुल गई हैं.

नोएडा, उत्तर प्रदेश की मोनिका अग्रवाल ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में यह याचिका दायर की थी. इसमें उन्होंने दलील दी थी कि किसानों ने महीनों से दिल्ली की सीमाओं (Delhi Borders) को बंद कर रखा है. इससे उन्हें दिल्ली पहुंचने में 20 मिनट के बजाय दो घंटे का समय लग जाता है. उनकी तरह दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों से जुड़े लाखों लोगों को ऐसी ही परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. लोगों की दिल्ली तक आवाजाही बुरे सपने की तरह हो गई है. अदालत ने लोगों को हो रही परेशानी से इत्तिफाक जताते हुए कहा था कि किसानों को प्रदर्शन का अधिकार है. लेकिन वे इस तरह सीमाएं बंद कर लाखों लोगों को परेशानी में नहीं डाल सकते. दिल्ली की सीमाएं (Delhi Borders) अनिश्चित काल के लिए बंद नहीं की जा सकतीं.

गौरतलब है कि केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन विवादित कृषि कानूनों (Disputed Farm Bills) के विरोध में नवंबर 2020 से पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों ने आंदोलन शुरू किया था. इसी क्रम में दिल्ली की सीमाओं पर 1 साल से अधिक तक किसान आंदोलनकारी धरना दिए बैठे रहे. यह सिलसिला अगस्त-2021 में तब रुका, जब केंद्र सरकार ने तीनों कृषि कानूनों (Farm Bills) को वापस लेने की घोषणा कर दी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने खुद टेलीविजन पर विशेष संदेश के जरिए तीनों कृषि कानून वापस लेने का ऐलान किया था. साथ ही किसानों की अन्य मांगों को भी मानने पर सहमति दी थी. इसके लिए समिति गठित की थी. इसके बाद किसान आंदोलनकारी भी धरनास्थल से उठ गए थे. साथ में उन्होंने दिल्ली की सीमाओं (Delhi Borders) से वे बाधाएं भी हटा दी थीं, जो आंदोलन के दौरान खड़ी की थीं.

Tags: Delhi Borders, Farmers Agitation on Delhi Border, Supreme Court

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर