कर्नाटक गवर्नर के फैसले के खिलाफ कांग्रेस की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

सुप्रीम कोर्ट ने अटॉर्नी जनरल को 48 घंटों का वक्त दिया है. शुक्रवार सुबह 10.30 बजे तक उन्हें राज्यपाल द्वारा भेजे गए दो लेटर पेश करने हैं, जो येदियुरप्पा को भेजे गए थे.

News18Hindi
Updated: May 17, 2018, 11:18 PM IST
कर्नाटक गवर्नर के फैसले के खिलाफ कांग्रेस की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज
सुबह 10:30 बजे सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस की याचिका पर सुनवाई होनी है.
News18Hindi
Updated: May 17, 2018, 11:18 PM IST
कर्नाटक चुनाव के रिजल्ट आने के बाद हाईवोल्टेज ड्रामा जारी है. गुरुवार को बीएस येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली और बीजेपी की सरकार बना ली. कर्नाटक के गवर्नर वजुभाई वाला ने चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता दिया था. कांग्रेस ने गवर्नर के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चैलेंज किया है. शुक्रवार सुबह 10:30 बजे सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस की याचिका पर सुनवाई होनी है.

दरअसल, बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा को शपथ लेने से रोकने के लिए कांग्रेस और जेडीएस ने बुधवार रात 11 बजे के करीब सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर तुरंत सुनवाई करने की अपील की, जिसके बाद देर रात चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने अर्जी स्वीकार करते हुए तीन जजों जस्टिस एके सीकरी, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस बोबडे की बेंच गठित कर सुनवाई का आदेश दिया. पूरी रात कोर्ट में सुनवाई हुई.

इस दौरान कांग्रेस का पक्ष रख रहे अभिषेक मनु सिंघवी ने कोर्ट से येदियुरप्पा का शपथ ग्रहण टालने की मांग की, लेकिन बेंच ने ऐसा करने से साफ इनकार कर दिया. कोर्ट ने कहा कि राज्यपाल का फैसला पलटा नहीं जा सकता. कोर्ट ने इस मामले की अगली सुनवाई के लिए शुक्रवार का वक्त दिया है.

सुप्रीम कोर्ट ने अटॉर्नी जनरल को दिया 48 घंटे का वक्त

सुप्रीम कोर्ट ने अटॉर्नी जनरल को 48 घंटों का वक्त दिया है. शुक्रवार सुबह 10.30 बजे तक उन्हें राज्यपाल द्वारा भेजे गए दो लेटर पेश करने हैं, जो येदियुरप्पा को भेजे गए थे. बेंच इन दो चिट्ठियों के जरिये से जानना चाहती है कि क्या येदियुरप्पा की ओर से पर्याप्त जानकारी राज्यपाल को दी गई, जिसके आधार पर उन्होंने सरकार बनाने के लिए येदियुरप्पा को ही सही विकल्प समझा. इसके अलावा कोर्ट ने कांग्रेस-जेडीएस की अर्जी पर कर्नाटक सरकार और येदियुरप्पा को नोटिस जारी करके जवाब मांगा है.

इस बीच येदियुरप्पा ने दावा किया है कि वो 15 दिन के पहले ही बहुमत साबित कर देंगे. उन्होंने जोर देते हुए कहा कि बीजेपी नेतृत्व को पूरा भरोसा है कि हम विधानसभा में बहुमत हासिल कर लेंगे.

चुनाव में क्या है सीटों का आकंड़ा
बता दें कि कर्नाटक चुनाव में बीजेपी को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 37 सीटें मिली हैं, ऐसे में इस बात पर सस्पेंस बना हुआ है कि आखिर येदियुरप्पा बहुमत के 112 के आंकड़े को हासिल कैसे करेंगे?

कोच्चि भेजे गए कांग्रेस-जेडीएस विधायक
कांग्रेस-JDS को हॉर्स ट्रेडिंग का डर सता रहा है. बीजेपी के जोड़-तोड़ से बचाने के लिए दोनों पार्टियों के विधायकों बेंगलुरु के इगल्टन रिजॉर्ट से हटाकर केरल शिफ्ट किया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक, सभी विधायकों को कोच्चि के एक फाइव स्टार होटल में रखा जाएगा. इस होटल में 100 कमरे बुक कर लिए गए हैं. कुछ देर में सभी विधायकों को स्पेशल बस से केरल के लिए रवाना किया जाएगा. बता दें कि सीएम बनते ही येदियुरप्पा ने इगल्टन रिजॉर्ट से सिक्योरिटी अधिकारियों और पुलिसकर्मियों को वापस बुला लिया. कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी के कुछ नेता उनके विधायकों को घूस देने के लिए रिजॉर्ट में घुसने की कोशिश कर रहे थे.

एंग्लो-इंडियन सदस्य नामित करने पर सुप्रीम कोर्ट गईं जेडीएस-बीजेपी
कर्नाटक विधानसभा में एंग्लो-इंडियन विधायक नामित किए जाने के खिलाफ गुरुवार को कांग्रेस-जेडीएस ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की. याचिका में कहा गया है कि जब तक येदियुरप्पा सदन में बहुमत साबित नहीं कर देते, तब तक ऐसे राज्यपाल की इस नियुक्ति को दरकिनार कर दिया जाए. ये नियुक्ति सदन में बीजेपी की ताकत बढ़ाने के लिए की गई है.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस को सरकार ने करनी पड़ रही संविधान और लोकतंत्र की हिफाजत: गुलाम नबी आजाद
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर