लाइव टीवी

शाहीन बाग प्रोटेस्ट: विरोध करना आपका अधिकार, रास्ता जाम करना नहीं, SC की बड़ी बातें

News18Hindi
Updated: February 18, 2020, 12:28 PM IST
शाहीन बाग प्रोटेस्ट: विरोध करना आपका अधिकार, रास्ता जाम करना नहीं, SC की बड़ी बातें
शाहीन बाग में बीते 64 दिनों से CAA के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं.

शीर्ष अदालत (Supreme Court) ने शाहीन बाग प्रोटेस्ट (Shaheen Bagh) मामले में सीनियर वकील संजय हेगड़े को मुख्य मध्यस्थ नियुक्त किया है. उन्हें प्रदर्शनकारियों को मनाने की जिम्मेदारी दी गई है. इसके अलावा वकील साधना रामचंद्रन, वजाहत हबीबुल्लाह और चंद्रशेखर आजाद वार्ताकारों की मदद करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 18, 2020, 12:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन एक्ट (CAA) के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में पिछले 64 दिनों से जारी प्रदर्शन को लेकर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई हुई. जस्टिस संजय कौशल, जस्टिस केएम जोसेफ की बेंच ने कहा कि लोकतंत्र हर किसी के लिए है. विरोध करना आपका अधिकार है, लेकिन आप सड़क जाम नहीं कर सकते. इस मसले पर अब अगले सोमवार (24 फरवरी) को सुनवाई होगी.

अदालत ने शाहीन बाग मामले में सीनियर वकील संजय हेगड़े को मुख्य मध्यस्थ नियुक्त किया है. उन्हें प्रदर्शनकारियों को मनाने की जिम्मेदारी दी गई है. इसके अलावा वकील साधना रामचंद्रन, वजाहत हबीबुल्लाह  वार्ताकारों की मदद करेंगे.

आइए जानते हैं सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई की बड़ी बातें:-

1>> सुप्रीम कोर्ट ने कहा, 'लोकतंत्र लोगों की अभिव्यक्ति से ही चलता है, लेकिन इसकी एक सीमा है. अगर सभी सड़क बंद करने लगे तो परेशानी खड़ी हो जाएगी. आप दिल्ली को जानते हैं, लेकिन दिल्ली के ट्रैफिक को नहीं. ट्रैफिक नहीं बंद होना चाहिए.'



2>>कोर्ट ने कहा, 'अगर हर कोई पब्लिक रोड को ब्लॉक करने लगे भले ही कारण कोई भी हो, तो क्या होगा? हमारी चिंता इस बात पर है कि प्रदर्शन सड़क पर किया जा रहा है. हमारा मानना है कि इस केस या दूसरे केस में सड़क को ब्लॉक नहीं किया जा सकता.'

3>> बेंच ने आगे कहा, 'केवल शाहीन बाग मामले में ही नहीं, अगर किसी दूसरे केस में भी सड़क बंद कर प्रदर्शन किया जाएगा, तो अफरा-तफरी ही मचेगी. इस तरह रोड ब्लॉक कर प्रोटेस्ट करने से दूसरे लोगों को भी इसका आइडिया आएगा.'

CAA PROTEST
सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सीनियर वकील संजय हेगड़े प्रदर्शनकारियों से बात करेंगे.


4>>सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पिछले 64 दिन से प्रदर्शन जारी है, लेकिन आप उन्हें हटा नहीं पाए. अब बातचीत से हल नहीं निकलता है तो हम अथॉरिटी को एक्शन के लिए खुली छूट देंगे.

5>>अदालत ने दिल्ली सरकार, दिल्ली पुलिस और केंद्र सरकार से प्रदर्शनकारियों को हटाने के ऑप्शन पर चर्चा करने और उनसे बात करने को कहा है.

6>>कोर्ट ने कहा कि प्रदर्शनकारियों को एक उचित समाधान के लिए राजी करें. इस दौरान वकील तसनीम अहमदी ने कहा कि इस प्रदर्शन में किसी एक धर्म नहीं बल्कि सभी धर्मों के लोग शामिल हैं.

7>>कोर्ट ने कहा कि अधिकारों और कर्तव्य के बीच संतुलन जरूरी है. हमें देखना है कि प्रदर्शनकारियों को क्या शाहीन बाग से कहीं और शिफ्ट किया जा सकता है.

माना जा रहा है कि प्रदर्शनकारियों को शाहीन बाग से रामलीला मैदान या लाल किला मैदान में शिफ्ट किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें:- 

शाहीन बाग प्रोटेस्ट: सुप्रीम कोर्ट ने संजय हेगड़े को बनाया मध्यस्थ, प्रदर्शनकारियों से बातचीत की दी जिम्मेदारी

दिल्ली: अमित शाह से मिलने जा रहे थे शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी, पुलिस ने बीच में ही रोका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 3:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर