सुप्रीम कोर्ट ने वकील प्रशांत भूषण और ट्विटर इंडिया के खिलाफ अवमानना की कार्यवाही शुरू की

सुप्रीम कोर्ट ने वकील प्रशांत भूषण और ट्विटर इंडिया के खिलाफ अवमानना की कार्यवाही शुरू की
प्रशांत भूषण की कथित अपमानजनक टिप्पणियां ट्विटर हैंडल से ही प्रसारित हुयी थीं (Photo- PTI)

प्रशांत भूषण (Prashant Bhushan) सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से जुड़े मसले लगातार उठाते रहे हैं और हाल ही में उन्होंने कोविड-19 महामारी (Covid-19 Pandemic) के दौरान दूसरे राज्यों से पलायन कर रहे कामगारों (Migrant Labourers) के मामले में शीर्ष अदालत के रवैये की तीखी आलोचना की थी.

  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कोर्ट के प्रति कथित रूप से अपमानजनक ट्वीट (Tweet) करने के मामले में अधिवक्ता एवं कार्यकर्ता प्रशांत भूषण (Prashant Bhushan) के खिलाफ मंगलवार को स्वत: अवमानना की कार्यवाही (Suo Moto Contempt Case) शुरू की. न्यायालय ने ट्विटर इंडिया (Twitter India) के खिलाफ भी अवमानना की कार्यवाही शुरू की है. भूषण की कथित अपमानजनक टिप्पणियां ट्विटर हैंडल से ही प्रसारित हुयी थीं.

न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा (Justice Arun Mishra) की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ के समक्ष यह मामला बुधवार को सुनवाई के लिये सूचीबद्ध है. प्रशांत भूषण न्यायपालिका से जुड़े मसले लगातार उठाते रहे हैं और हाल ही में उन्होंने कोविड-19 महामारी (Covid-19 Pandemic) के दौरान दूसरे राज्यों से पलायन कर रहे कामगारों (Migrant Labourers) के मामले में शीर्ष अदालत के रवैये की तीखी आलोचना की थी.

ये भी पढ़ें- और अधिक प्रदूषण से बचने के लिए कोविड-19 कचरे को अलग किया जाना चाहिए: एनजीटी



भीमा-कोरेगांव मामले के आरोपियों के साथ हो रहे व्यवहार पर उठाए थे सवाल
भूषण ने भीमा-कोरेगांव मामले (Bhima Koregaon Case) में आरोपी वरवर राव (Varvar Rao) और सुधा भारद्वाज (Sudha Bharadwaj) जैसे जेल में बंद नागरिक अधिकारों के लिये संघर्ष करने वाले कार्यकर्ताओं के साथ हो रहे व्यवहार के बारे में बयान भी दिये थे.

अभी यह स्पष्ट नहीं है कि प्रशांत भूषण के किस ट्वीट को पहली नजर में शीर्ष अदालत की अवमानना करने वाला माना गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading