सुप्रीम कोर्ट को मिलेगी 885 करोड़ की लागत से बनी एक और बिल्डिंग, राष्‍ट्रपति करेंगे उद्घाटन

भारतीय सुप्रीम कोर्ट की शुरुआत 28 जनवरी 1950 को हुई थी, तब कोर्ट का काम संसद भवन के कुछ हिस्से में होता था.

Sushil Kumar | News18Hindi
Updated: July 14, 2019, 10:58 AM IST
सुप्रीम कोर्ट को मिलेगी 885 करोड़ की लागत से बनी एक और बिल्डिंग, राष्‍ट्रपति करेंगे उद्घाटन
सुप्रीम कोर्ट की नई बिल्डिंग करीब 885 करोड़ रुपये की लागत से बनी है.(फाइल फोटो)
Sushil Kumar | News18Hindi
Updated: July 14, 2019, 10:58 AM IST
सुप्रीम कोर्ट को एक और नई काफी बड़ी बिल्डिंग बुधवार को मिल जाएगी. 17 जुलाई की शाम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद इस नई बिल्डिंग का उद्धघाटन करेंगे. 12.19 एकड़ में करीब 885 करोड़ रुपये की लागत से बनी इस बिल्डिंग में 15 लाख 40 हजार वर्ग फीट जगह उपलब्ध होगी.

सुप्रीम कोर्ट के पास सड़क के दूसरी तरफ प्रगति मैदान के साथ अप्‍पू घर को हटाकर नई बिल्डिंग बनाई गई है. जबकि नई बिल्डिंग सुप्रीम कोर्ट की पुरानी बिल्डिंग से जुड़ी रहेगी, जिसका रास्ता भूमिगत बना हुआ है.



ये खासियत है नई बिल्डिंग की
सुप्रीम कोर्ट का सारा प्रशासनिक काम, मुकदमों की फाइलिंग, कोर्ट के आदेशों और फैसलों की कापियां लेने आदि सभी काम पुरानी बिल्डिंग से इस नई बिल्डिंग में शिफ़्ट हो जाएगा. यह नहीं यहां 2000 कारों के लिए तीन मंजिला पार्किंग होगी और वकीलों को अपने लिए 500 नए चैंबर मिलेगें. इस बिल्डिंग में 650 और 250 लोगों की क्षमता वाले दो ऑडिटोरियम और एक बड़ा राउंड टेबल कांफ्रेंस रूम बनाया गया है. मुकदमों की सुनवाई करने वाली अदालतें पुरानी बिल्डिंग में ही रहेगी, साथ ही चीफ जस्टिस और अन्य जजों के आफिस भी पुरानी बिल्डिंग में बने रहेंगे.

सुप्रीम कोर्ट पर एक नजर
भारतीय सुप्रीम कोर्ट की शुरुआत 28 जनवरी 1950 को हुई थी, तब कोर्ट का काम संसद भवन के कुछ हिस्से में होता था, जो आठ साल बाद 1958 में सुप्रीम कोर्ट की अपनी बिल्डिंग में आ गया. सुप्रीम कोर्ट में कुल 31 जजों के पद हैं और इन सभी पदों पर नियुक्ति है, जो सभी अदालतें पुरानी बिल्डिंग में कार्यरत हैं.

ये भी पढ़ें: बैंक में गलत आधार दिया तो लग सकता है 10 हजार रुपये का जुर्माना
Loading...

जानिए कितने करोड़ खर्च कर चंद्रमा की जमीन पर अपना रोवर उतारेगा भारत
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...