• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • सुप्रीम कोर्ट का आदेश- प्रत्‍याशी का ऐलान करने के 48 घंटे के अंदर देनी होगी मुकदमों की जानकारी

सुप्रीम कोर्ट का आदेश- प्रत्‍याशी का ऐलान करने के 48 घंटे के अंदर देनी होगी मुकदमों की जानकारी

सुप्रीम कोर्ट में आज राजनीति के अपराधीकरण से जुड़े एक मामले की सुनवाई हुई.

सुप्रीम कोर्ट में आज राजनीति के अपराधीकरण से जुड़े एक मामले की सुनवाई हुई.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आदेश दिया है कि सभी राजनीतिक दलों (Political Parties) को अपनी पार्टी के उम्‍मीदवारों (Candidate) का ऐलान करने के 48 घंटे के अंदर उससे जुड़ी हर जानकारी देनी होगी.

  • Share this:

    नई दिल्‍ली. राजनीति के अपराधीकरण से जुड़े एक मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आदेश दिया है कि सभी राजनीतिक दलों (Political Parties) को अपनी पार्टी के उम्‍मीदवारों (Candidate) का ऐलान करने के 48 घंटे के अंदर उससे जुड़ी हर जानकारी सार्वजनिक करनी होगी. सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में साफ किया कि अगर किसी उम्‍मीदवार के ऊपर कोई आपराधिक मुकदमा दर्ज है या किसी मामले में उम्‍मीदवार आरोपी है तो उसकी जानकारी भी 48 घंटे के अंदर देनी होगी.

    सुप्रीम कोर्ट ने राजनीतिक दलों के आपराधिक रिकॉर्ड वाली गाइडलाइंस को और सख्त किया है और अपने पुराने फैसले में सुधार किया है. सुप्रीम कोर्ट ने राजनीति में अपराधीकरण से जुड़े 13 फरवरी 2020 के अपने फैसले को संशोधित करते हुए कहा कि राजनीतिक दलों को चुनाव के लिए चयनित प्रत्‍याशियों का आपराधिक इतिहास भी प्रकाशित करना होगा.

    इसे भी पढ़ें :- ऑक्सीजन के लिए बने कार्यबल की सिफारिशों पर क्‍या किया, केंद्र बताए : सुप्रीम कोर्ट

    बता दें कि इससे पहले फरवरी 2020 में सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले के पैराग्राफ 4.4 में आदेश दिया था कि सभी राजनीतिक दलों को उम्‍मीदवारों के चयन के 48 घंटे के अंदर या नामांकन दाखिल करने की पहली तारीख से कम से कम दो सप्‍ताह पहले, जो भी पहले हो उस उम्‍मीदवार से जुड़ी हर जानकारी सार्वजन‍िक करनी होगी. उम्‍मीदवार पर अगर कोई आपराधिक मुकदमा दर्ज हो तो भी इसकी जानकारी सार्वजनिक करनी जरूरी होगी.

    इसे भी पढ़ें :- Amazon, Flipkart को सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिली राहत, CCI जांच में दखल देने से इंकार

    सुनवाई के दौरान चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि जो भी राजनीतिक दल उम्‍मीदवारों के आपराधिक रिकॉर्ड सार्वजनिक नहीं करते हैं उनके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्‍लंघन करने के मद्देनजर पार्टी के चुनाव चिह्न को फ्रीज या निलंबित रखा जाए. इस पर सीपीएम की ओर से वकील ने बिना शर्त माफी मांगते हुए कहा कि हमारा भी यही विचार है कि राजनीति का अपराधीकरण नहीं होना चाहिए. इस पर कोर्ट ने सीपीएम के वकील से कहा कि माफी से काम नहीं चलेगा. हमारे आदेशों का पालन करना होगा. बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान कई उम्‍मीदवारों की ओर से उनके ऊपर दर्ज आपराधिक मुकदमों की जानकारी नहीं दी गई थी. बाद में ये मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया था. सुप्रीम कोर्ट ने अब इस पर सख्‍त रुख अपनाया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज