लाइव टीवी

ऑड-इवन पर सुप्रीम कोर्ट ने खड़े किए सवाल, दिल्ली सरकार से पूछा- इससे क्या फायदा होगा?

News18Hindi
Updated: November 4, 2019, 4:40 PM IST
ऑड-इवन पर सुप्रीम कोर्ट ने खड़े किए सवाल, दिल्ली सरकार से पूछा- इससे क्या फायदा होगा?
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

दिल्ली (Delhi) की जहरीली हवा को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अपनी नाराजगी जताई है. इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने ऑड-इवन (Odd-Even) के फॉर्मूले पर भी सवाल खड़े किए हैं और पूछा है कि इससे क्या फायदा होगा?

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2019, 4:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) की जहरीली हवा (Toxic Air) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) खासा नाराज है. उसने इस स्थिति को इमरजेंसी से भी बदतर बताया और कहा कि इससे बेहतर इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) के कार्यकाल की इमरजेंसी थी.

इस दौरान सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने ऑड-इवन (Odd-Even) के फॉर्मूले पर भी सवाल खड़े किए हैं और पूछा है कि इससे क्या फायदा होगा? इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को शुक्रवार तक ऑड-इवन लागू करने से होने वाले फायदों से जुड़ा डेटा सुप्रीम कोर्ट में पेश करने को कहा है.

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा क्या कार पूल करने वालों को मिल सकता है इंसेंटिव?
सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ऑड-इवन की बजाए सरकार को डीजल गाड़ियों पर बैन लगाना चाहिए था. साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा है कि आप कार पूल (Car Pool) करने वालों को इंसेंटिव दे सकते हो.

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में राज्य सरकारों को दोषी ठहराया है और कहा है कि इसके लिए राज्य सरकारें जिम्मेदार हैं. सभी की सभी... वे केवल चुनावी राजनीति में रुचि लेती हैं. राज्य सरकारों ने सभी जगहों पर मजाक बना रखा है. हम अब उन्हें ऊपर से नीचे तक जिम्मेदार ठहराने जा रहे हैं.

पंजाब में पराली जलाने के मामले 7% बढ़े जबकि हरियाणा में 17% घटे
सुप्रीम कोर्ट ने इस मसले पर प्रशासन को प्रदूषण रोक पाने में नाकाम रहने के लिए फटकार लगाई है और कहा है कि उन्होंने लोगों को मरने के लिए छोड़ दिया है. इस मसले पर एमिकस क्यूरी (न्याय मित्र) ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि केंद्र सरकार के एफिडेविट (Affidavit) में बताया गया है कि पंजाब (Punjab) में पराली जलाए जाने के मामलों में करीब 7% की बढ़ोतरी दर्ज की गई है, वहीं हरियाणा (Haryana) में पराली जलाए जाने के मामले में 17% की कमी आई है.
Loading...

लोगों को दी जा रही दिल्ली छोड़कर जाने की सलाह
सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा है कि कई सारे अध्ययनों में यहां की हवा के बहुत खराब हो जाने के चलते लोगों को दिल्ली छोड़कर जाने और यहां न लौटने की सलाह दी गई है.

सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा है कि अगले आदेश तक दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में कोई भी निर्माण कार्य नहीं करवाया जा सकेगा. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने सभी गैर-जरूरी उद्योगों को भी कुछ समय के लिए बंद रखने को कहा है.

पराली जलाना नहीं रुका तो व्यक्तिगत तौर पर जिम्मेदार होंगे अधिकारी
इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिवों को बुधवार को तलब किया है. सभी राज्यों के पुलिस डिपार्टमेंट और स्थानीय प्रशासन को यह जिम्मेदारी दी गई है कि वे यह सुनिश्चित करें कि एक भी पराली जलाने की घटना न हो. अगर पंजाब, हरियाणा या उत्तरप्रदेश (UP) में कोई भी पराली जलाने की घटना सामने आती है तो उस राज्य के मुख्य सचिव, पुलिस कमिश्नर और सभी दूसरे अधिकारियों को इसके लिए व्यक्तिगत तौर पर जिम्मेदार ठहराया जाएगा. राज्यों को इसे न रोक पाने के लिए जुर्माना भी भरना पड़ेगा.

यह भी पढ़ें: दिल्ली की जहरीली हवा पर SC सख्त, कहा- लोग मर रहे हैं, हरियाणा-पंजाब में प्रशासन ठप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 4, 2019, 3:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...