अपना शहर चुनें

States

देशद्रोह केस में कर्नाटक के स्कूल-टीचर्स को राहत नहीं, याचिका पर SC का सुनवाई से इनकार

याचिका पर सुनवाई से इनकार.
याचिका पर सुनवाई से इनकार.

पीठ ने मामले की सुनवाई से इनकार करते हुए कहा, 'प्रभावित पक्ष को आने दीजिए और हम उन्हें सुनेंगे. ये आपकी तरफ से क्यों होना चाहिए.'

  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने उस याचिका पर सुनवाई से शुक्रवार को इनकार कर दिया जिसमें सरकारी तंत्र द्वारा देशद्रोह कानून के कथित दुरुपयोग से निपटने के लिए उचित प्रणाली बनाने का अनुरोध किया गया था. न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर की अगुवाई वाली पीठ ने एक सामाजिक कार्यकर्ता की याचिका खारिज करते हुए कहा कि वह राहत के लिये उचित प्राधिकार के पास जा सकते हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता के वकील उत्सव सिंह बैंस से कहा कि वह कथित तौर पर छात्रों को नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजी के विरोध में नाटक के मंचन की अनुमति देने के लिए कर्नाटक के एक स्कूल के प्रबंधन के खिलाफ दायर राजद्रोह के मामले में दर्ज प्राथमिकी रद्द करने का अनुरोध नहीं कर सकते.

'प्रभावित पक्ष को आने दीजिये'
बैंस ने पीठ से कहा कि वह याचिका में प्राथमिकी रद्द करने का अनुरोध नहीं कर रहे हैं, बल्कि याचिकाकर्ता ने इसमें राजद्रोह कानून के कथित दुरुपयोग के निपटने के लिए उचित प्रणाली बनाने का भी अनुरोध किया है. पीठ ने मामले की सुनवाई से इनकार करते हुए कहा,‘‘प्रभावित पक्ष को आने दीजिए और हम उन्हें सुनेंगे. ये आपकी तरफ से क्यों होना चाहिए.’’
दायर की गई थी याचिका


याचिका में बीदर के शाहीन स्कूल के प्रधानाचार्य और अन्य स्टाफ के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा124ए (राजद्रोह) और धारा 153ए (विभिन्न समूहों में कटुता को बढ़ावा देना) के तहत मामला दर्ज किया गया है. याचिका में सरकार द्वारा राजद्रोह के कानून के कथित दुरूपयोग को रोकने के लिए समुचित तंत्र बनाने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है. याचिका में केन्द्र और कर्नाटक सरकार को इस मामले में दर्ज प्राथमिकी रद्द करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया था.

पीएम के खिलाफ किया था आपत्तिजनक शब्‍द का इस्‍तेमाल
जानकारी के मुताबिक पुलिस ने 26 जनवरी को देशद्रोह का केस दर्ज किया था. 21 जनवरी का एक वीडियो फेसबुक पर वायरल हुआ था. इसमें दिख रहा था कि चौथी और पांचवीं क्‍लास के बच्चे शाहीन स्कूल में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ एक नाटक कर रहे थे और अपने डायलॉग में वे पीएम मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल कर रहे थे.

यह भी पढ़ें: चीन ने खोज निकाली कोरोना वायरस ठीक करने की दवा, कई मरीजों को बचाने का दावा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज