• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • जजों की सुरक्षा का मामला: SC ने कहा, CBI ने कुछ नहीं किया, हमें इसके रवैये में बदलाव की उम्‍मीद थी

जजों की सुरक्षा का मामला: SC ने कहा, CBI ने कुछ नहीं किया, हमें इसके रवैये में बदलाव की उम्‍मीद थी

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के सुस्‍त रवैये पर तीखी प्रतिक्रिया दी है.

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के सुस्‍त रवैये पर तीखी प्रतिक्रिया दी है.

मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना (NV Ramana) की ओर से ये टिप्‍पणी तब आई है, जब सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने झारखंड के अतिरिक्‍त जिला न्‍यायाधीश उत्तम आनंद (Uttam Anand) की हत्‍या के मामले में न्‍यायाधीशों और अदालतों की सुरक्षा के मुद्दे पर स्‍वत: संज्ञान लिया है.

  • Share this:

    नई दिल्‍ली. जजों को धमकी देने की शिकायतों पर संतोषजनक जवाब नहीं देने पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने केंद्रीय जांच ब्‍यूरो (CBI) और खुफिया ब्‍यूरो (Intelligence Bureau) पर कड़ी नाराजगी जताई है. मुख्‍य न्‍यायाधीश एनवी रमना (NV Ramana) और न्‍यायमूर्ति सूर्यकांत की पीठ ने सीबीआई के खिलाफ तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, सीबीआई ने कुछ नहीं किया, जबकि हमें इसके रवैये में बदलाव की उम्‍मीद थी.

    मुख्य न्यायाधीश की ओर से ये टिप्‍पणी तब आई है, जब सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड के अतिरिक्‍त जिला न्‍यायाधीश उत्तम आनंद की हत्‍या के मामले में न्‍यायाधीशों और अदालतों की सुरक्षा के मुद्दे पर स्‍वत: संज्ञान लिया है. चीफ जस्टिस रमना ने भारत के अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल से कहा कि देश के न्‍यायाधीशों पर न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक रूप से भी हमला किया जा रहा है. व्‍हाट्सऐप पर धमकी देकर और डराने वाले संदेश भेजकर सोशल मीडिया पर उस पोस्‍ट को भी प्रसारित किया जा रहा है.

    मुख्य न्यायाधीश ने बताया कि कुछ जगहों पर तो इस तरह के मामलों में सीबीआई जांच के भी आदेश जारी किए गए हैं. CJI ने इस दौरान पिछले साल आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय की ओर से जारी किए गए आदेश का भी जिक्र किया, जिसमें उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के खिलाफ सोशल मीडिया पर धमकी भरे पोस्ट की सीबीआई जांच का निर्देश दिया गया था.

    इसे भी पढ़ें :- Dhanbad Judge Murder Case: जज उत्तम आनंद की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा, जानें कैसे हुई मौत

    मुख्‍य न्‍यायाधीश ने अटॉर्नी जनरल से कहा, एक या दो जगहों पर अदालतों ने इस तरह के मामलों पर सीबीआई जांच के आदेश भी दिए हैं, लेकिन दुख की बात है कि सीबीआई ने अब तक इन मामलों में कुछ नहीं किया है. हमें सीबीआई के रवैये में कुछ बदलाव की उम्मीद थी, लेकिन कोई बदलाव नहीं हुआ है. हमें यह देखकर दुख होता है. CJI ने कहा कि प्रतिकूल आदेश पारित होने पर न्‍यायाधीशों को बदनाम करने का एक नया चलन शुरू हो चुका है. न्‍यायाधीशों की शिकायतों के बावजूद सीबीआई और आईबी की ओर से न्यायपालिका की कोई मदद नहीं की जाती है.

    इसे भी पढ़ें :- Dhanbad Judge Death केस में SC की तल्ख टिप्पणी, कहा- जज शिकायत भी करते हैं तो पुलिस या CBI एक्शन नहीं लेती

    पीठ ने झारखंड के न्यायाधीश की मौत की जांच में प्रगति के बारे में अदालत को अवगत कराने के लिए सोमवार, 10 अगस्त को सीबीआई को उपस्थित होने को कहा है. पीठ ने 2019 में दायर एक याचिका पर भारत सरकार से जवाब मांगा है, जिसमें न्यायाधीशों और अदालतों के लिए एक विशेष सुरक्षा बल की मांग की गई थी. इस याचिका को स्वत: संज्ञान लेते हुए मुख्‍य न्‍यायाधीश ने इस मामले को सूचीबद्ध किया है. CJI ने कहा कि हालांकि याचिका 2019 में दायर की गई थी, केंद्र ने अभी तक अपना जवाब दाखिल नहीं किया है. मामले की अगली सुनवाई 9 अगस्‍त को होगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज