• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा, पुलिस अफसरों और सत्‍ताधारी दलों का गठजोड़ परेशान करने वाला

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, पुलिस अफसरों और सत्‍ताधारी दलों का गठजोड़ परेशान करने वाला

सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश एनवी रमना ने पुलिस महकमे को लेकर की विशेष टिप्‍पणी.

सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश एनवी रमना ने पुलिस महकमे को लेकर की विशेष टिप्‍पणी.

सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश एनवी रमना (NV Ramana) ने कहा कि देखा जा रहा है कि पुलिस (Police ) के अधिकारी सत्‍ता में मौजूद राजनीतिक पार्टी (Political Party) का फेवर करते हैं. देश में इस तरह का जो ट्रेंड दिख रहा है वह काफी परेशान करने वाला है.

  • Share this:

    नई दिल्‍ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने पुलिस अधिकारियों के सत्‍ताधारी दलों के साथ गठजोड़ पर चिंता जताई है. सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश एनवी रमना (NV Ramana) ने कहा कि देखा जा रहा है कि पुलिस (Police ) के अधिकारी सत्‍ता में मौजूद राजनीतिक पार्टी (Political Party) का फेवर करते हैं और सत्‍ता पक्ष के विरोधियों के खिलाफ कार्यवाही करते हैं. बात यहीं खत्‍म नहीं होती जब विरोधी पक्ष के लोग सत्‍ता में आते हैं तो उन्‍हीं पुलिस अफसरों पर कार्यवाही करते हैं. देश में इस तरह का जो ट्रेंड दिख रहा है वह काफी परेशान करने वाला है.

    इसके लिए पुलिस विभाग को ही जिम्‍मेदार ठहरान चाहिए. पुलिस को चाहिए कि वह कानून के शासन पर टिके रहें. वह सत्‍ता और विपक्ष किसी के साथ न होकर स्‍वतंत्र रूप से काम करें. पुलिस महकमे में जिस तरह का ट्रेंड दिखाई पड़ रहा है उसे रोकने की जरूरत है. सुप्रीम कोर्ट ने ये टिप्‍पणी छत्तीसगढ़ के निलंबित अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक गुरजिंदर पाल सिंह की याचिका पर सुनवाई करते हुए की. हालांकि कोर्ट ने गुरजिंदर पाल को राहत देते हुए राज्‍य पुलिस को आदेश दिया कि वह अगले चार हफ्तों तक राजद्रोह और आय से अधिक संपत्ति के मामले में उन्‍हें गिरफ्तार नहीं करेगी. इस संबंध में राज्य सरकार को भी नोटिस जारी किया गया है और पुलिस अधिकारी से जांच में सहयोग करने को कहा गया है.

    इसे भी पढ़ें :- सांसदों-विधायकों के खिलाफ दर्ज मामलों की जांच में देरी पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, केंद्र को दिए निर्देश

    बता दें कि अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक गुरजिंदर पाल सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 124ए के तहत राजद्रोह और आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज है. इस मामले में गुरजिंदर पाल सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में दो याचिका दाखिल की है. पहली याचिका में उन्‍होंने कोर्ट से अपील की है कि उनके ऊपर लगाए गए राजद्रोह के केस को रद्द किया जाए और दूसरा पूरे मामले की सीबीआई जांच कराई जाए. उन्‍होंने कोर्ट को बताया कि उन्‍हें सरकार की ओर से लगातार परेशान किया जा रहा है.

    इसे भी पढ़ें :- केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम से मिली सिफारिश मानी, राष्ट्रपति को भेजे गए 9 न्यायाधीशों के नाम- रिपोर्ट  

    वहीं दूसरी तरफ छतीसगढ़ सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में अपना पक्ष रखने पहुंचे मुकुल रोहतगी ने बताया कि इस मामले में पिछले हफ्ते ही चार्जशीट दाखिल की गई है. रोहतगी ने कोर्ट को बताया कि गुरजिंदर पाल सिंह पिछले दो महीने से अंडरग्राउंड हैं. वे वरिष्ठ पुलिस अफसर हैं फिर भी फरार हैं. बता दें कि छत्तीसगढ़ सरकार ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में गुरजिंदर पाल सिंह को निलंबित कर दिया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज