कोरोना वैक्सीन में कालाबाजारी के खिलाफ दायर याचिका पर SC का सुनवाई से इनकार

नकली वैक्सीन की बिक्री रोकने संबंधी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का सुनवाई से इनकार.

नकली वैक्सीन की बिक्री रोकने संबंधी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का सुनवाई से इनकार.

COVID-19 Vaccination: कोविड-19 के नकली टीके की बिक्री को रोकने के लिए केंद्र सरकार को सख्त दिशा-निर्देश देने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी. जिस पर कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2021, 1:52 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court ) ने गुरुवार को उस याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया, जिसमें देश में कोविड-19 के नकली टीकों की बिक्री को रोकने के लिए केंद्र को 'सख्त' दिशा-निर्देश तैयार करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया था. प्रधान न्यायाधीश एसए बोबडे, न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी. रामसुब्रमण्यम की एक पीठ ने कहा कि हालांकि वे जनहित याचिका दायर करने के पीछे की 'मंशा' समझते हैं लेकिन हम ऐसे ही कोई निर्देश नहीं दे सकते. पीठ ने याचिका दायर करने वाले वकील विशाल तिवारी से कहा, 'हम आपकी मंशा समझते हैं लेकिन आप एक ठोस मामला दायर करें. हम ऐसे ही कोई निर्देश नहीं दे सकते. हम कोई विधानमंडल नहीं है.'

पीठ ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सुनवाई में कहा, 'अगर आप (वकील) इस मुद्दे को आगे ले जाना चाहते हैं तो ठोस तथ्यों के आधार पर एक मामला तैयार करें. हम आपको इस याचिका को वापस लेने और नई याचिका दायर करने का अधिकार देते हैं.' इसके बाद तिवारी ने यह याचिका वापस लेने का फैसला किया.

Youtube Video


हिमाचल प्रदेश में 4,825 लोगों को कोरोना वायरस वायरस का टीका लगाया गया
हिमाचल प्रदेश में बुधवार को टीकाकरण के दूसरे चरण की शुरुआत के साथ अग्रिम पंक्ति के 4,825 कर्मचारियों को कोरोना वायरस वायरस का टीका लगाया गया. स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. विशेष सचिव (स्वास्थ्य) निपुण जिंदल ने बताया कि 16 जनवरी से नौ फरवरी तक पहले चरण के दौरान 1,133 सत्रों में 61,289 स्वास्थ्य कर्मचारियों को टीका लगाए जाने के बाद दूसरा चरण अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों के लिए शुरू हुआ. उन्होंने कहा कि शुक्रवार को उन स्वास्थ्यकर्मियों के लिए टीकाकरण का एक और दौर निर्धारित किया गया है जो किसी कारण से टीका नहीं लगवा सके है.

इस बीच, बुधवार को 78 सत्रों में अग्रिम पंक्ति के 8,098 कर्मचारियों को टीका लगाया जाना था, लेकिन 4,825 लोगों को ही टीके लगाए जा सके, जो कि निर्धारित संख्या का 59.6 प्रतिशत है. जिंदल ने बताया कि राज्य में बुधवार को टीके के प्रतिकूल प्रभाव का कोई मामला सामना नहीं आया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज