लाइव टीवी

ब्रिटेन से कोहिनूर वापस लाने का आदेश नहीं कर सकते पारित - सुप्रीम कोर्ट

News18Hindi
Updated: April 28, 2019, 12:06 PM IST
ब्रिटेन से कोहिनूर वापस लाने का आदेश नहीं कर सकते पारित - सुप्रीम कोर्ट
फाइल फोटो

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की पीठ ने कोई ऐसा आधार नहीं पाया, जिसके तहत पूर्व में दिए गए आदेश की समीक्षा की जा सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2019, 12:06 PM IST
  • Share this:
उत्कर्ष आनंद
सुप्रीम कोर्ट ने कोहिनूर को वापस लाने संबंधी याचिका पर दिए अपने पुराने फैसले की समीक्षा संबंधी याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की पीठ ने कोई ऐसा आधार नहीं पाया, जिसके तहत पूर्व में दिए गए आदेश की समीक्षा की जा सके.

बेंच ने क्यूरेटिव पिटिशन खारिज करते हुए कहा कि इसमें कोई मेरिट नहीं है और याचिकाकर्ता इस संबंध में कोई उपर्युक्त वजह नहीं बता सका है कि क्यों इस मामले पर कोई सुनवाई की जाए.

यह भी पढ़ें: आम्रपाली ग्रुप के खिलाफ धोनी पहुंचे सुप्रीम कोर्ट, लगाए ये आरोप

पीठ ने अपने हालिया आदेश में कहा, 'हमने क्यूरेटिव पिटिशन के साथ दिए गए कागजात देखे. हमारी राय में रूपा अशोक हुर्रा बनाम अशोक हुर्रा और अन्य के मामले में तय मानकों के तहत कोई मामला नहीं बनता. ऐसे में यह क्यूरिटिव पिटीशन खारिज की जाती है.'

यह भी पढ़ें: जब शिकायत हो सुप्रीम कोर्ट जज के खिलाफ, तो ऐसे होती है कार्रवाई!

पांच जजों की पीठ में जस्टिस एसए बोब्डे, जस्टिस एन रमन्ना, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एसके कौल शामिल थे. इससे पहले अदालत ने एनजीओ, ऑल इंडिया ह्यूमन राइट्स एंड सोशल जस्टिस फ्रंट की ओर से दाखिल याचिका पर सुनवाई की थी. उस वक्त अदालत ने कहा था कि 'कोहिनूर हीरे के साथ क्या करना है, वह इस संबंध में ब्रिटेन को आदेश नहीं दे सकता.'
Loading...

यह भी पढ़ें:  CJI गोगोई मामले में याचिका दाखिल, कोर्ट से मीडिया कवरेज पर रोक लगाने की मांग

अदालत ने पूछा कि दो देशों के बीच संबंधों से जुड़ी कोई याचिका, जो उनके न्यायाधिकार में नहीं है वह सुप्रीम कोर्ट तक कैसे पहुंच जाती है.

यह भी पढ़ें: शत्रुघ्न सिन्हा ने पीएम मोदी पर किया तंज, कहा- 'दो लोगों की सेना' ने तोड़ दी अर्थव्यवस्था की कमर

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 28, 2019, 11:39 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...