Home /News /nation /

लॉकडाउन: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, वकीलों की मदद के लिए अलग से फंड बनाने की जरूरत नहीं

लॉकडाउन: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, वकीलों की मदद के लिए अलग से फंड बनाने की जरूरत नहीं

सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने दलील दी कि हर तबका लॉकडाउन (Lockdown) के चलते दिक्कत में है. ऐसे में वो सिर्फ वकीलों के लिए कोई आदेश कैसे दे सकते हैं.

    नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए देश भर में इन दिनों 3 मई तक लॉकडाउन लागू है. ऐसे में कई लोग फंसे हैं साथ ही वो काम नहीं कर पा रहे हैं. ऐसे में वकीलों की एक टीम बुधवार को सुप्रीम कोर्ट पहुंची. इनकी मांग थी कि काम न होने से आर्थिक परेशानी का सामना कर रहे वकीलों की मदद के लिए एक फंड बनाया जाए. लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने मदद के लिए फंड बनाने का आदेश देने से मना कर दिया.

    कोर्ट की दलील
    सुप्रीम कोर्ट ने दलील दी कि हर तबका दिक्कत में है. ऐसे में वो सिर्फ वकीलों के लिए कोई आदेश कैसे दे सकते हैं. साथ ही कोर्ट ने कहा कि वकीलों के हित देखने के लिए बार काउंसिल है. वह इस मसले पर विचार करे.

    मास्क को डिस्पोज़ करने पर कोर्ट की राय
    वहीं सुप्रीम कोर्ट में एक याचिकाकर्ता ने इस्तेमाल किए गए मास्क को सही तरीके से डिस्पोज़ करने की मांग की. केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को इस मुद्दे पर बताया कि स्वास्थ्य मंत्रालय पहले ही दिशानिर्देश जारी कर चुका है. कोर्ट ने कहा कि हमारी जानकारी के मुताबिक इस मसले पर NGT पहले से सुनवाई कर रहा है. उसे ही ये मामला देखने दिया जाए.

    लॉकडाउन में छूट
     गृह मंत्रालय ने इस बात के संकेत जरूर दिए हैं कि 3 मई के बाद ऑरेंज और ग्रीन जोन के कई इलाकों में छूट मिल सकती है. इसके बारे में जल्द ही नए गाइडलाइन जारी किए जाएंगे.पांबदियों को लेकर गाइडलाइन बाद में जारी किए जाएंगे. लेकिन कहा जा रहा है कि उन इलाकों में छूट मिलेगी जहां पिछले 28 दिनों से कोई कोरोना के मामले न आए हों.

    ये भी पढ़ें:

    जब जिंदगी-मौत से जंग लड़ रहे ऋषि कपूर ने बेटे रणबीर से कही थी दिल की बात

    चीन छोड़ भारत आना चाहती हैं ये दो कंपनियां, जल्‍द जारी होगा आ

    Tags: Lockdown, Supreme Court

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर