बकरीद पर कोविड नियमों में ढील पर केरल सरकार से सुप्रीम कोर्ट ने मांगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट (File Photo)

केरल (Kerala) के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinrayi Vijayan) ने ईद-उल-अजहा (बकरीद) से पहले कोविड संबंधी पाबंदियों में कुछ ढील देने की घोषणा की थी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने केरल सरकार (Kerala Government) से बकरीद के मद्देनजर कोविड-19 (Covid-19) प्रतिबंधों में तीन दिन की छूट देने के खिलाफ दायर याचिका पर आज जवाब दाखिल करने को कहा है. ईद-उल-अजहा (बकरीद) से पहले प्रतिबंधों में ढील देने के केरल सरकार के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है. यह ढील ऐसे वक्त में दी गई है जब राज्य में कोविड मामलों और टेस्ट पॉजिटिविटी रेट में वृद्धि देखी जा रही है. सुप्रीम कोर्ट अब कल यानी मंगलवार को इस मामले की सुनवाई करेगा.

    बता दें केरल में 21 जुलाई को बकरीद त्योहार के मद्देनजर कोविड​​​-19 संबंधी पाबंदियों में ढील देने के सरकार के फैसले की रविवार को विपक्षी दल कांग्रेस और भारतीय चिकित्सा संघ (IMA) ने आलोचना की. IMA ने सरकार के फैसले को कानूनी चुनौती देने की चेतावनी दी है. कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्वीट किया कि अगर कांवड़ यात्रा गलत है, तो बकरीद पर पाबंदियों में ढील देना भी गलत है. खासकर ऐसे राज्य में जो फिलहाल कोविड-19 के केंद्रों में शुमार है.

    उन्होंने ट्वीट किया, 'केरल सरकार द्वारा बकरीद समारोह के लिए 3 दिनों की छूट प्रदान करना निंदनीय है क्योंकि राज्य फिलहाल कोविड-19 के केंद्रों में से एक है. अगर कांवड़ यात्रा गलत है, तो बकरी पर सार्वजनिक समारोह की छूट देना भी गलत है.' वहीं, IMA ने रविवार को केरल सरकार से इस फैसले को वापस लेने का अनुरोध करते हुए इसे चिकित्सा आपातकाल के समय 'गैरजरूरी और अनुचित' बताया.

    केरल में कोविड-19 के 13,956 नए मामले, कई स्थानों पर संक्रमण दर 10% से अधिक
    उधर केरल में रविवार को कोविड-19 के 13,956 नए मामले सामने आने के साथ राज्य में अब तक संक्रमित हुए लोगों की कुल संख्या बढ़ कर 31.60 लाख पहुंच गई है. राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने उपरोक्त जानकारी देते हुए बताया कि शादी विवाह जैसे समारोहों की वजह से राज्य में संक्रमण के कई केंद्र बनने के संकेत मिले हैं, जहां संक्रमण दर (जांच किये गए नमूनों में संक्रमण की पुष्टि) 10 प्रतिशत से अधिक है. जॉर्ज ने कहा कि जो लोग कार्यक्रम करना चाहते हैं उन्हें कोविड-19 नियमों और पाबंदियों का अनुपालन करते हुए ऐसा करना चाहिए.

    राज्य सरकार द्वारा जारी विज्ञप्ति के मुताबिक राज्य में ऐसे 567 स्थान हैं जहां पर जांच किये गये नमूनों में संक्रमण की पुष्टि 10 प्रतिशत से अधिक लोगों में हुई. विज्ञप्ति के मुताबिक गत 24 घंटे में 81 संक्रमितों की मौत हुई है जिन्हें मिलाकर राज्य में अब तक महामारी से 15,350 लोगों की जान जा चुकी है. वहीं, इस अवधि के दौरान 13,613 लोगों के संक्रमण मुक्त होने के साथ ठीक होने वाले मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 30,20,052 हो गई है.

    विज्ञप्ति के मुताबिक पिछले 24 घंटे के दौरान 1,30,553 नमूनों की जांच की गई जिनमें 10.69 प्रतिशत नमूनों में संक्रमण की पुष्टि हुई. राज्य में अब तक 2.53 करोड़ नमूनों की जांच की गई है. राज्य में सबसे अधिक प्रभावित मलाप्पुरम जिला है जहां 2271 नए मामले सामने आए हैं. इसके अलावा कोझिकोड में 1666, एर्णाकुलम में 1555, त्रिशूर में 1486, कोल्लम में 1026 और तिरुवनंतपुरम में 977 नए मामले हैं. विज्ञप्ति के मुताबिक गत 24 घंटे के दौरान संक्रमित मिले मरीजों में 56 स्वास्थ्य कर्मी हैं. इस समय राज्य में 4,05,176 लोगों को निगरानी में रखा गया है जिनमें से 24,794 मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.