Home /News /nation /

लंबित मामलों का जल्द निपटारा करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा कदम

लंबित मामलों का जल्द निपटारा करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा कदम

लंबित मामलों का जल्द निपटारा करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा कदम.

लंबित मामलों का जल्द निपटारा करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा कदम.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने नया नियम बनाया, जिसके तहत जमानत, अग्रिम जमानत और केस को ट्रांसफर करने की याचिका पर अब सिंगल जज की बेंच (Single Judge Bench) सुनवाई करेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
    नई दिल्ली: लंबित मामलों (Pending Cases) का जल्द निपटारा करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने बड़ा कदम उठाया है. सुप्रीम कोर्ट ने नया नियम बनाया, जिसके तहत जमानत, अग्रिम जमानत और केस को ट्रांसफर करने की याचिका पर अब सिंगल जज की बेंच सुनवाई करेगी.

    सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी नोटिफिकेशन.


    अब तक, सभी श्रेणी के मामलों को तय करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय में गठित केवल दो न्यायाधीश बेंच (डिवीजन बेंच) या इससे ज्यादा न्यायाधीशों के बेंच हुआ करते थे. हालांकि, भारत के मुख्य न्यायाधीश द्वारा सुझाए गए नए नियमों को केंद्र सरकार ने अब अधिसूचित किया है. ये नियम शीर्ष अदालत के लिए न्यायाधीशों के सिगल बेंच को जमानत और अग्रिम जमानत के मामलों को तय करने के अधिकार देते हैं, जहां अपराधों की सजा सात साल तक की जेल है. अपराधों की इस श्रेणी में आपराधिक आरोपों से लेकर भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम तक के मामले शामिल हैं.

    हाईकोर्ट्स में ही करीब 43.55 लाख मामले लंबित हैं.

    देश के विभिन्‍न हाईकोर्ट्स में ही करीब 43.55 लाख मामले लंबित हैं. इन मामलों के बारे में विधि और न्‍याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने स्वयं बताया था. लोकसभा में सांसद अदूर प्रकाश द्वारा पूछे गए लिखित सवाल के जवाब में विधि और न्‍याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि 1 जुलाई 2019 तक देश के विभिन्‍न उच्‍च न्‍यायालयों में करीब 43.55 लाख मामले लंबित हैं.

    Tags: Court, Judiciary, New Rule, Supreme Court

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर