लाइव टीवी

जाधवपुर में बाबुल सुप्रियो के साथ बदसलूकी पर BJP- हत्या का इंतज़ार कर रहीं थीं ममता

News18Hindi
Updated: September 20, 2019, 11:43 PM IST
जाधवपुर में बाबुल सुप्रियो के साथ बदसलूकी पर BJP- हत्या का इंतज़ार कर रहीं थीं ममता
पश्चिम बंगाल के जादवपुर यूनिवर्सिटी में केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के साथ बदसलूकी पर बीजेपी खासा नाराज है.

पश्चिम बंगाल (West Bengal) के जादवपुर यूनिवर्सिटी (Jadavpur University) में केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो (Union minister Babul Supriyo) के साथ बदसलूकी पर बीजेपी खासा नाराज है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2019, 11:43 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) के जादवपुर यूनिवर्सिटी (Jadavpur University) में वामपंथी छात्र संगठनों द्वारा केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो (Union minister Babul Supriyo) के साथ धक्‍का-मुक्‍की और काले झंडे दिखाने से बीजेपी (BJP) काफी नाराज है. इसपर बीजेपी ने शुक्रवार को कहा कि जेयू का कैंपस वामपंथियों और राष्‍ट्रविरोधियों का अड्डा बन गया है. पार्टी के कैडर इसे तहस-नहस करने के लिए बालाकोट की तरह की सर्जिकल स्‍ट्राइक (Surgical Strike) करेंगे.

पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करके ममता बनर्जी सरकार पर आरोप लगाया कि वह जादवपुर यूनिवर्सिटी में इतनी बड़ी घटना होने के बावजूद चुप इसलिए हैं, क्‍योंकि उन्‍हें वहां पर बाबुल सुप्रियो की हत्‍या का इंतजार था. उन्‍होंने कहा कि वह गृह मंत्री अमित शाह को इस घटना से विस्‍तार से अवगत कराएंगे.

घोष ने कहा कि ऐसी घटना पहली बार नहीं हुई है. जेयू कैंपस राष्‍ट्रविरोधी और कम्‍युनिस्‍ट गतिविधियों का केंद्र बन गया है. जिस तरह से सेना ने पाकिस्‍तान में आतंकी अड्डों को तबाह किया है. वैसे ही हमारी कैडर भी उसी तरह का एक सर्जिकल स्‍ट्राइक करके इस कैंपस को राष्‍ट्रविरोधियों और कम्‍युनिस्‍ट गतिविधियों से मुक्‍त कराएगी.

एबीवीपी द्वारा आयोजित सेमीनार में पहुंचे थे

बता दें कि कोलकाता की जाधवपुर यूनिवर्सिटी में गुरुवार को बाबुल सुप्रियो के साथ धक्का-मुक्की की गई और उन्हें काले झंडे दिखाए गए. सुप्रियो के खिलाफ वापस जाओ के नारे भी लगाए गए. बीजेपी सांसद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) द्वारा आयोजित एक सेमिनार को संबोधित करने के लिए यूनिवर्सिटी पहुंचे थे.

बाबुल सुप्रियो के साथ धक्का-मुक्की की गई और उन्हें काले झंडे दिखाए गए.


वामपंथी झुकाव वाले संगठन, आर्ट फैकल्टी स्टूडेंट्स यूनियन (AFSU) और स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI) के छात्रों ने ‘बाबुल सुप्रियो वापस जाओ’ के नारे लगाए. इसके साथ ही सुप्रियो को करीब डेढ़ घंटे तक कैंपस में प्रवेश करने से रोके रखा. शाम को जब सुप्रियो परिसर से निकलने लगे उस समय भी उनका विरोध किया गया.मेरे बाल खींचे गए और धक्का दिया: सुप्रियो
घटना के बाद सुप्रियो ने कहा, 'मैं यहां राजनीति करने नहीं आया हूं. यूनिवर्सिटी के कुछ छात्रों के व्यवहार से दुखी हूं, जिस तरह उन्होंने मेरा घेराव किया. उन्होंने मेरे बाल खींचे और मुझे धक्का दिया.' पश्चिम बंगाल के राज्‍यपाल जगदीप धनकड़ सुप्रियो को बचाने के लिए यूनिवर्सिटी पहुंच गए थे.

ये भी पढ़ें: छात्रा का आरोप- बाबुल सुप्रियो ने किया सेक्सिस्ट कमेंट, इसलिए भड़की हिंसा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 20, 2019, 9:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर