जब सुषमा स्वराज और मनमोहन सिंह के बीच संसद में हुई थी शायरी की जुगलबंदी

सुषमा स्वराज ने पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के शेर का जवाब देते हुए पढ़ा, ‘तुम्हें वफा याद नहीं, हमें जफा याद नहीं, जिंदगी और मौत के दो ही तराने हैं, एक तुम्हें याद नहीं, एक हमें याद नहीं.’

भाषा
Updated: August 7, 2019, 10:33 PM IST
जब सुषमा स्वराज और मनमोहन सिंह के बीच संसद में हुई थी शायरी की जुगलबंदी
जब सुषमा और मनमोहन ने शायरी से साधा था एक-दूसरे पर निशाना (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: August 7, 2019, 10:33 PM IST
पंद्रहवीं लोकसभा के दौरान सत्तारूढ़ कांग्रेस और विपक्षी बीजेपी के बीच अक्सर वाकयुद्ध होता रहता था. लेकिन उसी दौरान सुषमा स्वराज और तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बीच हुई शेरो-शायरी अब भी लोग याद करते हैं.

सुषमा उस समय नेता प्रतिपक्ष थीं और कई यादगार उदाहरण हैं जिनमें दोनों नेताओं ने शेरो-शायरी के जरिए एक दूसरे पर निशाना साधा. 15वीं लोकसभा में ही एक बहस के दौरान मनमोहन सिंह ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए मिर्जा गालिब का मशहूर शेर पढ़ा, ‘‘हम को उनसे वफा की है उम्मीद, जो नहीं जानते वफा क्या है.’

सुषमा ने दिया था ये जवाब
इसके जवाब में सुषमा स्वराज ने कहा कि अगर शेर का जवाब दूसरे शेर से नहीं दिया जाए तो ऋण बाकी रह जाएगा. इसके बाद उन्होंने बशीर बद्र की मशहूर रचना पढ़ी, ‘ कुछ तो मजबूरियां रही होंगी, यूं ही कोई बेवफा नहीं होता.’ इसके बाद सुषमा ने दूसरा शेर भी पढ़ा, ‘तुम्हें वफा याद नहीं, हमें जफा याद नहीं, जिंदगी और मौत के दो ही तराने हैं, एक तुम्हें याद नहीं, एक हमें याद नहीं.’

पूर्व पीएम ने सुनाया ये शेर
सुषमा स्वराज के इस शेर के बाद सदन में मौजूद सदस्य अपनी हंसी नहीं रोक पाए थे. इसी तरह 2011 में भी दोनों नेता आमने सामने थे. मनमोहन सिंह ने इकबाल के एक शेर को उद्धृत किया था, ‘माना कि तेरे दीद के काबिल नहीं हूं मैं, तू मेरा शौक देख, मेरा इंतजार देख.’

लालू को दिया था जवाब
Loading...

इस पर सुषमा ने कहा था, ‘ना इधर-उधर की तू बात कर, ये बता कि काफिला क्यों लुटा, हमें रहज़नों से गिला नहीं, तेरी रहबरी का सवाल है.’ एक बार राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने भी उन पर निशाना साधा. इस पर सुषमा ने भी उन्हीं के अंदाज में कहा था कि वह मसखरी के अलावा कुछ नहीं कर सकते.

ये भी पढ़ें- सुषमा के निधन पर UNGA अध्यक्ष ने जताया शोक, कहा- मैं हमेशा उन्हें याद रखूंगी
First published: August 7, 2019, 7:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...