कांग्रेस ने केंद्र पर सुशांत मामले में महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश रचने का आरोप लगाया

सुशांत सिंह राजपूत को 14 जून को बांद्रा स्थित उनके अपार्टमेंट में फांसी पर लटका पाया गया था (फाइल फोटो)
सुशांत सिंह राजपूत को 14 जून को बांद्रा स्थित उनके अपार्टमेंट में फांसी पर लटका पाया गया था (फाइल फोटो)

सीबीआई (CBI) को दी अपनी अंतिम रिपोर्ट में, फोरेंसिक डॉक्टरों की 6-सदस्यीय टीम ने मामले में किए गए "जहर (poison) देकर और गला घोंटकर हत्या करने" के दावों को खारिज कर दिया है. राज्य कांग्रेस (State Congress) के प्रवक्ता सचिन सावंत ने आरोप लगाया कि एम्स के पैनल द्वारा की गई आधिकारिक पुष्टि यह साबित करती है कि मुंबई पुलिस (Mumbai Police) द्वारा की गई जांच सच्ची और ईमानदार थी.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र कांग्रेस (Maharashtra Congress) ने शनिवार को केंद्र सरकार पर बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Bollywood actor Sushant Singh Rajput) की मौत के मामले में राज्य को बदनाम करने की साजिश रचने (Plotting Conspiracy) का आरोप लगाया और साजिशकर्ताओं को पकड़ने के लिए एक एसआईटी (SIT) गठित करने की मांग की है. भाजपा (BJP) ने हालांकि इन आरोपों से इनकार किया है और कहा कि वह राजपूत के लिए न्याय चाहती है. गौरतलब है कि एम्स (AIIMS) के मेडिकल बोर्ड ने राजपूत की मौत को "आत्महत्या (Suicide) से हुई मौत का मामला" करार दिया, जिसके बाद कांग्रेस (Congress) ने ये आरोप लगाए हैं.

सीबीआई (CBI) को दी अपनी अंतिम रिपोर्ट में, फोरेंसिक डॉक्टरों की छह-सदस्यीय टीम ने मामले में किए गए "जहर (poison) देकर और गला घोंटकर हत्या करने" के दावों को खारिज कर दिया है. राज्य कांग्रेस (State Congress) के प्रवक्ता सचिन सावंत ने आरोप लगाया कि एम्स के पैनल द्वारा की गई आधिकारिक पुष्टि यह साबित करती है कि मुंबई पुलिस (Mumbai Police) द्वारा की गई जांच सच्ची और ईमानदार थी. यह भी स्पष्ट हो चुका है कि यह केन्द्र की भाजपा सरकार (BJP Government) की अपने नकली मीडिया सहयोगियों की मदद से महाराष्ट्र (Maharashtra) को बदनाम करने की साजिश थी.’’

"हमारा उद्देश्य सुशांत सिंह राजपूत के लिए न्याय सुनिश्चित करना है"
उन्होंने कहा, ‘‘हम महाराष्ट्र सरकार से मांग करते हैं कि षड्यंत्रकारियों और उनके सरगना को पकड़ने के लिए और भाजपा आईटी टीम द्वारा चलाए जा रहे सोशल मीडिया गिरोह के प्रवर्तकों का पता लगाने के लिए एक एसआईटी बनाई जाए. हम अपने लोकतंत्र को बचाने के लिए इन नकली चैनलों के खिलाफ उचित कार्रवाई चाहते हैं.’’ संपर्क करने पर, भाजपा प्रवक्ता केशव उपाध्याय ने सावंत के आरोपों को खारिज कर दिया. उन्होंने कहा, ‘‘हमारा उद्देश्य सुशांत सिंह राजपूत के लिए न्याय सुनिश्चित करना है. निष्कर्ष तक पहुंचने में इतनी आकुलता क्यों है? विस्तृत रिपोर्ट आने दें.’’
यह भी पढ़ें: निर्भया की वकील लड़ेंगी हाथरस की बेटी का केस, सुप्रीम कोर्ट जाने की हुई तैयारी



राजपूत को 14 जून को बांद्रा स्थित उनके अपार्टमेंट में फांसी पर लटका पाया गया था. मुंबई पुलिस ने पहले एक दुर्घटनावश मौत का मामला (ADR) दर्ज कर जांच शुरू की थी. हालांकि, सीबीआई ने अगस्त में उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद इस मामले की जांच अपने हाथ में ले ली थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज