Assembly Banner 2021

सुशांत सिंह राजपूत मामले में NCB ने सुप्रीम कोर्ट में कहा- हम रिया चक्रवर्ती की जमानत के खिलाफ नहीं

रिया चक्रवर्ती  NCB की चार्जशीट में मुख्य आरोपी हैं

रिया चक्रवर्ती NCB की चार्जशीट में मुख्य आरोपी हैं

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के मामले में एनसीबी ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि उसे रिया चक्रवर्ती की जमानत से कोई आपत्ति नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 2:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के मामले में एनसीबी ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि उसे रिया चक्रवर्ती की जमानत से कोई आपत्ति नहीं है. नार्कोटिक्स ब्यूरो ने कोर्ट में कहा है कि वह रिया चक्रवर्ती की जमानत के खिलाफ नहीं है. बॉम्बे हाईकोर्ट ने कुछ कॉमेंट्स किये हैं, जिसके लेकर जांच एजेंसी चिंतित है. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सरकार और एनसीबी संशोधनों के साथ याचिका दायर करे. अब इस मामले की सुनवाई 22 मार्च को होगी. NCB की ओर से कोर्ट में वकील तुषार मेहता ने कहा कि हम जमानत पर नहीं कह रहे बल्कि हाईकोर्ट ने कुछ कॉमेंट्स किये हैं.

NCB की ओर से कोर्ट में वकील तुषार मेहता ने कहा कि हम जमानत पर नहीं कह रहे बल्कि हाईकोर्ट ने कुछ कॉमेंट्स किये हैं. बता दें सुशांत सिंह राजपूत केस में ड्रग्स को लेकर गिरफ्तारियां हुईं थीं.

एनसीबी ने किया हाईकोर्ट से शौविक की जमानत खारिज करने की अपील
इससे पहले एनसीबी नेबुधवार को ड्रग मामले में अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती को मिली जमानत रद्द करने का अनुरोध करते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. एनसीबी बॉलीवुड स्टार सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद इस ड्रग मामले की जांच कर रही है. एनसीबी ने पिछले महीने हाईकोर्ट में दायर याचिका में कहा है कि नारकोटिक्स ड्रग्स एडं साइकोट्रोपिक सब्सटांसेज एक्ट से जुड़े मामलों की सुनवाई कर रही विशेष अदालत ने हाईकोर्ट की पिछली टिप्पणियों की अनदेखी की है और उसने इस मामले में शौविक एवं अन्य आरोपियों को जमानत देने में त्रुटि की है.
पिछले साल अक्टूबर में बॉम्बे हाईकोर्ट ने इस मामले में शौविक की जमानत अर्जी खारिज कर दी थी जबकि रिया को जमानत दे दी थी. एनसीबी ने याचिका में दलील दी है कि विशेष अदालत हाईकोर्ट की इस टिप्पणी पर गौर नहीं कर पायी कि ऐसा जान पड़ता है कि शौविक का इस मामले के अन्य आरोपियों के साथ संबंध है जिनसे प्रतिबंधित सामग्री भारी मात्रा में बरामद की गयी है.



उसने कहा कि ऐसी संभावना है कि जमानत पर बाहर निकलने पर शौविक फिर ऐसी हरकतों में लग जाएगा. शौविक को नौ सितंबर, 2020 को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था. विशेष अदालत ने 11 सितंबर, 2020 को उसकी पहली जमानत अर्जी खारिज कर दी थी और उसी वर्ष सात अक्टूबर को बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी उसे जमानत देने इनकार कर दिया था.

शौविक ने विशेष अदालत के सामने दूसरा जमानत आवेदन दिया और 12 दिसंबर, 2020 को विशेष अदालत ने उसे जमानत दे दी. हाईकोर्ट में एनसीबी की याचिका पर 30 मार्च को सुनवाई होने की संभावना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज