जब हरियाणा में सुषमा स्वराज ने कहा 'मैं मंत्री हूं, कृपया...

Sushma Swaraj Death-छात्र राजनीति के बाद बतौर मंत्री सुषमा स्‍वराज एक बार अंबाला कैंट आर्मी एयरपोर्ट में किसी को रिसीव करने के लिए गई थीं, तभी वहां के सिक्योरिटी वालों ने उन्हें रोक लिया.

vineet kumar | News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 9:18 PM IST
जब हरियाणा में सुषमा स्वराज ने कहा 'मैं मंत्री हूं, कृपया...
सुषमा स्वराज शुरू से ही परिपक्‍व नेता थीं.
vineet kumar | News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 9:18 PM IST
आज राज्यसभा के कई सांसदों ने सुषमा स्वराज को लेकर अपने-अपने अनुभव न्यूज़ 18 से बांटे. इसी सिलसिल में केंद्रीय मंत्री रतनलाल कटारिया ने बीते दिनों की यादों को याद करते हुए बताया कि बात उन दिनों की है जब सुषमा स्‍वराज पहली बार मंत्री बनी थीं और सन रहा होगा 1978 का (चौधरी देवीलाल की सरकार में श्रम मंत्री).

एक बार वह अंबाला कैंट आर्मी एयरपोर्ट में किसी को रिसीव करने के लिए गई तभी वहां के सिक्योरिटी वालों ने उन्हें रोक लिया. छात्र राजनीति के बाद विधायक का चुनाव लड़ने वाली 25 साल की सुषमा अभी भी किसी कॉलेज स्टूडेंट की तरह ही दिखती थीं. लिहाजा सिक्योरिटी वाले को लगा कि कॉलेज की लड़की आर्मी एयरपोर्ट में एंट्री करना चाहती है, तब सुषमा ने बड़े सादगी से कहा, 'मैं मंत्री हूं. कृपया मुझे अंदर जाने दीजिए.'

सुषमा स्वराज की परिपक्वता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 25 साल की उम्र में भी मंत्री पद होते हुए उन्हें गुरुर छू भी नहीं पाया था. उनकी सादगी ने ही उन्हें राजनीति के शिखर पर पहुंचाया और उनकी सादगी के कारण ही वे हमेशा याद की जाएंगी.

जावड़ेकर ने यूं किया याद

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने उन्हें याद करते हुए कहा की सुषमा स्‍वराज सबके लिए सुलभ थीं और सोशल साइट्स पर भी कोई उनसे मदद मांगता था तो वह उनकी मदद किया करती थीं. इसी वजह से उन्हें लोग पीपुल्स फॉरेन मिनिस्टर कहते थे.

बिरेंदर सिंह ने कही ये बात
पूर्व केंद्रीय मंत्री और राज्यसभा सदस्य चौधरी बिरेंदर सिंह ने सुषमा स्वराज को याद करते हुए कहा कि सुषमा स्वराज जब पहली बार हरियाणा में विधायक के तौर पर चुनी गई थीं. उस वक्त वह भी पहली बार ही चुनाव जीते थे. चौधरी वीरेंद्र सिंह ने भावुक होते हुए कहा कि सुषमा सबसे कम उम्र की विधायक थीं और मैं सबसे कम उम्र का पुरुष विधायक उस विधानसभा में था.
Loading...

थावरचंद गहलोत को सुषमा स्‍वराज की ये बात आई पसंद
केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने सुषमा स्वराज को राजनीति में बड़े मापदंड स्थापित करने के लिए याद किया. उन्होंने कहा,'राजनीति में ऐसा बहुत कम दिखता है जब लोग खुद से सत्ता छोड़ने और चुनाव न लड़ने की घोषणा करते हैं, सुषमा स्वराज उन्हीं में से एक थीं.'

विपक्षी दलों ने ऐसे किया याद
विपक्षी दल के राज्यसभा सदस्यों ने भी सुषमा स्वराज को उनकी खास व्यक्तित्व के लिए याद किया. आरजेडी सदस्य मनोज झा ने कहा कि सुषमा स्वराज के साथ भले ही वैचारिक मतभेद था, लेकिन उनसे बेहतर इंसान मिलना काफी मुश्किल है. उन्होंने याद करते हुए कहा कि एक बार जब राज्यसभा में किसी मुद्दे पर अपना वक्तव्य दिया था, उस वक्त सुषमा स्वराज उनके पास आईं और पीठ थपथपाते हुए कहा कि आपने काफी अच्छा बोला. यकीनन यही बात उन्हें महान बनाती है.

ये भी पढ़ें-...जब सुषमा स्वराज ने कार्यकर्ताओं की डिमांड पर अचानक कर डालीं 4 रैलियां

कांग्रेस के युवा नेताओं में भी पॉपुलर थीं सुषमा स्वराज, आरपीएन सिंह बोले- उनके सवालों से घबराते थे हम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 7, 2019, 9:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...