Home /News /nation /

बिना सबूत के किसी के मौत की घोषणा करना पाप: लापता भारतीयों पर सुषमा

बिना सबूत के किसी के मौत की घोषणा करना पाप: लापता भारतीयों पर सुषमा

विदेश मंत्री ने बुधवार को लोकसभा में उन खबरों को पूरी तरह से खारिज किया जिसमें इराक में गायब भारतीयों के मारे जाने की बात कही गई थी.

विदेश मंत्री ने बुधवार को लोकसभा में उन खबरों को पूरी तरह से खारिज किया जिसमें इराक में गायब भारतीयों के मारे जाने की बात कही गई थी.

विदेश मंत्री ने बुधवार को लोकसभा में उन खबरों को पूरी तरह से खारिज किया जिसमें इराक में गायब भारतीयों के मारे जाने की बात कही गई थी.

    विदेश मंत्री ने बुधवार को लोकसभा में उन खबरों को पूरी तरह से खारिज किया जिसमें इराक में गायब भारतीयों के मारे जाने की बात कही गई थी. सुषमा स्वराज ने सदन को बताया कि इसके कोई साक्ष्य नहीं हैं कि इराक के मोसुल में गायब 39 भारतीयों की मौत हो गई है. उन्होंने कहा, बिना सबूत के किसी के मौत की घोषणा करना पाप है.

    इराक के विदेश मंत्री ने भी इस संबंध में यही कहा है कि उनके पास लापता भारतीयों के जीवित या मृत होने के कोई सबूत नहीं हैं.

    स्वराज ने कहा, "मेरे पास इस बात का कोई सबूत नहीं है कि मोसुल में गायब हुए भारतीय जिंदा हैं लेकिन इस बात का भी कोई सबूत नहीं है कि वे मारे जा चुके हैं. एक व्यक्ति कह रहा है कि लापता भारतीयों की मौत हो गई है वहीं छह अन्य सूत्रों का कहना है कि वे जीवित हैं." विदेश मंत्री ने इराक से भारत लौटे हरजीत के इनपुट के आधार पर इराक में सर्च ऑपरेशन जारी रखने की अनुमति लोकसभा से मांगी.

    खुद पर लगे देश को गुमराह करने के आरोप पर सफाई देते हुए स्वराज ने कहा कि यदि मैं किसी को मृत घोषित कर दूं और कल को वह वापस आकर मेरे सामने खड़ा हो जाए तो? मैं यह नहीं कर सकती. जिसे भी लगता है कि इराक में लापता हुए भारतीय मारे जा चुके हैं और जिन्हें लगता है कि मैं झूठ बोल रही हूं वह आगे आए और जाकर उनके परिजनों को यह खबर दे दे. लेकिन यदि कल हमें पता चलता है कि वह व्यक्ति जीवित है तब परिवार को मौत की खबर देने वाला व्यक्ति इसका जिम्मेदार होगा.

    स्वराज ने कहा, "हमने कभी नहीं कहा कि लापता भारतीय फिलहाल मोसुल जेल में हैं. आखिरी इंटेलिजेंस रिपोर्ट के मुताबिक उन्हें 2016 की शुरुआत में उस जेल में रखा गया था."

    Tags: Ministry of External Affairs, Sushma swaraj

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर