अपना शहर चुनें

States

हरीश साल्वे को मिल गई 1 रुपये की फीस, सुषमा स्वराज की बेटी ने चुकाया बकाया

हरीश साल्वे अपनी फीस शुक्रवार को बांसुरी स्वाराज से प्राप्त करते हुए.
हरीश साल्वे अपनी फीस शुक्रवार को बांसुरी स्वाराज से प्राप्त करते हुए.

हरीश साल्वे (Harish Salve) को उनकी 1 रुपये की फीस बांसुरी स्वाराज (Bansuri Swaraj) से प्राप्त हुई. बांसुरी स्वराज, सुषमा स्वराज की बेटी हैं. इस संदर्भ में सुषमा स्वराज के पति स्वराज कौशल ने ट्वीट किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 28, 2019, 8:18 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) का निधन 6 अगस्त को गया था. निधन से कुछ देर पहले ही उन्होंने पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) का पक्ष रखने वाले वकील हरीश साल्वे (Harish Salve) को मिलने बुलाया था. ये बुलावा इस केस के लिए उनकी 1 रुपये की फीस देने के लिए था. शुक्रवार को सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज ने हरीश साल्वे को उनकी 1 रुपये की फीस दे दी.

बता दें कि वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने नीदरलैंड के हेग में स्थित अंतराराष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) में कुलभूषण जाधव का पक्ष रखा था. इसके बाद आईसीजे ने जाधव की फांसी पर रोक लगा दी थी और पाकिस्तान को इस फैसले पर दोबारा विचार करने को कहा था. साल्वे ने इस केस की सुनवाई में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए 1 रुपये की फीस ली थी. लेकिन, सुषमा स्वराज का आकस्मिक निधन हो जाने की वजह से उन्हें उनकी फीस नहीं मिली थी. अब हरीश साल्वे को उनकी फीस मिल गई है.

स्वराज कौशल ने किया ट्वीट
इस संदर्भ में सुषमा स्वराज के पति स्वराज कौशल ने ट्वीट किया है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा- 'आज आपकी अंतिम इच्छा पूरी कर दी गई है. कुलभूषण जाधव के केस की फीस में जो एक रुपया जो आप छोड़ गई थीं, उसे आज बांसुरी ने हरीश साल्वे को दे दिया है.'





पाकिस्तान ने साजिश के तहत किया था जाधव को गिरफ्तार
असल में पाकिस्तान ने साजिश कर मार्च 2016 को कुलभूषण जाधव को जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया था. वहां की आर्मी कोर्ट ने जाधव को मौत की सजा सुनाई थी. पाकिस्तान भारतीय अधिकारियों को उनसे मिलने की इजाजत नहीं दे रहा था. इसके बाद भारत ने इस मामले को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उठाया था. आईसीजे के आदेश पर बाद में पाकिस्तान को जाधव के लिए कांसुलर एक्सेस की सुविधा देनी पड़ी.

ये भी पढ़ें-
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने UNGA में दुनिया को दिए ये 7 बड़े संदेश

UNGA : कौन हैं तमिल कवि कणियन पूंगुन्ड्रनार जिनका पीएम ने भाषण में किया जिक्र
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज