होम /न्यूज /राष्ट्र /'रोमियो' इंस्पेक्टर ने पीड़ित लड़की को भेजी दो लाख की रकम, मुकदमा वापसी का बना रहे दबाव

'रोमियो' इंस्पेक्टर ने पीड़ित लड़की को भेजी दो लाख की रकम, मुकदमा वापसी का बना रहे दबाव

'रोमियो' बने बदायूं जिले के बिसौली थाने के निलंबित एसओ एसपी उपाध्याय एक बार फिर चर्चा में हैं. Image: Etv Network

'रोमियो' बने बदायूं जिले के बिसौली थाने के निलंबित एसओ एसपी उपाध्याय एक बार फिर चर्चा में हैं. Image: Etv Network

एकतरफा इश्क की शिकार बनी पीड़िता को इंस्पेक्टर एसपी उपाध्याय ने झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दी है. उसने दो लाख रुपए ...अधिक पढ़ें

    'रोमियो' बने बदायूं जिले के बिसौली थाने के निलंबित एसओ एसपी उपाध्याय एक बार फिर चर्चा में हैं. इंस्पेक्टर के एकतरफा इश्क की शिकार बनी पीड़िता को एसपी उपाध्याय ने झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दी है. यही नहीं उसने दो लाख रुपए की पेशकश करते हुए मुकदमा वापस लेने का भी दबाव बनाया.

    यह भी पढ़ें: पाकिस्तान में कुलभूषण की जिंदगी कैसी होगी? यशपाल को देखकर अंदाजा लगा लीजिए

    लड़की ने बरेली में डीआईजी रेंज आशुतोष कुमार से मिलकर इंस्पेक्टर की शिकायत की है. डीआइजी ने युवती के परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने और मामले की जांच बदायूं से बरेली स्थानांतरित करने के निर्देश दिए हैं. इसके अलावा निलंबित किए इंस्पेक्टर का देर रात पीलीभीत के लिए स्थानांतरण भी कर दिया गया.

    यह भी पढ़ें: सीएम योगी से 'अधूरी' एंबुलेंस का उद्घाटन कराने की जांच शुरू, सीएमओ देंगे रिपोर्ट

    दरअसल बदायूं में बिसौली के इंस्पेक्टर एसपी उपाध्याय इस लड़की को लगातार वाट्सऐप पर अश्लील मैसेज कर रहे थे और अकेले में मिलने को बुलाते थे.

    badayun inspector whats app message
    इंस्पेक्टर द्वारा वॉट्सएप पर पीड़ित लड़की को भेजे गए मैसेज. Image: ETV Network


    लड़की के मना करने पर भी जब वह नहीं माने तो पीड़िता ने आईजी जोन विजय प्रकाश से इसकी शिकायत कर दी.

    यह भी पढ़ें: समाजवादी पार्टी ने जारी किया 'ड्रेस कोड'

    नतीजे में एसपी उपाध्याय के खिलाफ एफआईआर लिखाने के साथ ही उसे सस्पेंड कर दिया गया था. इसके अलावा जांच भी शुरू कराई गई थी. लेकिन दो हफ्ते से ज्यादा गुजरने के बाद भी अभी तक विवेचक ने लड़की के बयान तक नहीं दर्ज कराए हैं. पीड़िता ने डीआईजी से अपने मामले कि विवेचना बरेली स्थानांतरित करने और सुरक्षा की मांग की.

    डीआईजी ने माना कि मामले में विवेचक सीओ की भूमिका संदिग्ध है. उन्होंने कहा कि विवेचक द्वारा इतना समय बीतने के बाद भी 164 के ब्यान दर्ज क्यों नहीं कराए गए. इसका स्पष्टीकरण लिया जायेगा. आरोपी इंस्पेक्टर को बदायूं से हटाया जाएगा, साथ ही जांच भी बरेली ट्रांसफर की जाएगी.

    Tags: UP police

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें