अपना शहर चुनें

States

सुवेंदु अधिकारी का अध्याय बंद हो चुका है: टीएमसी

टीएमसी का कहना है कि ने कहा कि अगर अधिकारी कुछ कहना चाहते हैं तो वह उनकी बात सुनने के लिये तैयार है (फाइल फोटो)
टीएमसी का कहना है कि ने कहा कि अगर अधिकारी कुछ कहना चाहते हैं तो वह उनकी बात सुनने के लिये तैयार है (फाइल फोटो)

West Bengal Assembly Elections: पिछले सप्ताह ममता बनर्जी मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने वाले अधिकारी ने गुरुवार को पार्टी के बैनरों और झंडों के बिना रैली की.

  • Share this:
कोलकाता. तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) ने गुरुवार को कहा कि असंतुष्ट नेता सुवेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) का अध्याय बंद हो चुका है और पार्टी अब उन्हें वापस लाने के लिये कोई प्रयास नहीं करेगी. पार्टी सूत्रों ने यह जानकारी दी. सूत्रों के अनुसार टीएमसी (TMC) आलाकमान ने अधिकारी को पार्टी में रहने के लिये मनाने तथा उनकी शिकायतें सुनने के लिये आगे कोई पहल नहीं करने का फैसला किया है. हालांकि उन्होंने कहा कि अगर अधिकारी कुछ कहना चाहते हैं तो वह उनकी बात सुनने के लिये तैयार है.

टीएमसी और अधिकारी के बीच सुलह कराने का काम कर रहे पार्टी के वरिष्ठ नेता तथा सांसद सौगत राय (Sugata Roy) ने किसी का नाम लिये बिना कहा कि टीएमसी एक बहुत बड़ी राजनीतिक पार्टी है, जिसके पास ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) जैसा जन नेता है. 'अगर एक या दो लोग पार्टी छोड़ देते हैं तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा.'

ममता ने पार्टी नेताओं को दिए हैं ये निर्देश
टीएमसी के एक वरिष्ठ नेता ने नाम सार्वजनिक नहीं करने की शर्त पर बताया, 'हमारी पार्टी की प्रमुख ममता बनर्जी ने कल हमें उनके (अधिकारी) साथ आगे कोई बातचीत नहीं करने और (राज्य के चुनाव) अभियान पर ध्यान केन्द्रित करने का निर्देश दिया. पार्टी के लिये सुवेंदु अधिकारी का अध्याय बंद हो चुका है. अगर वह कुछ कहना चाहते हैं तो कह सकते हैं. अब सबकुछ उनपर निर्भर करता है.'
अधिकारी ने गुरुवार को कहा कि वह 'बंगाल और भारत के पुत्र' हैं और लोगों की सेवा करना जारी रखेंगे. अधिकारी ने खुद के और पार्टी के बीच चल रही बातचीत में ठहराव आने के बाद अगले राजनीतिक कदम को लेकर लगाई जा रहीं अटकलों के बीच यह टिप्पणी की है. पार्टी का दावा है कि अधिकारी के साथ मतभेदों को दूर कर लिया गया है.



सुवेंदु ने TMC के झंडों के बिना की रैली
पिछले सप्ताह ममता बनर्जी मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने वाले अधिकारी ने गुरुवार को यहां पार्टी के बैनरों और झंडों के बिना रैली की. पूर्वी मिदनापुर जिले के तामलुक उप-मंडल में हुई इस रैली का आयोजन स्वतंत्रता सेनानी खुदीराम बोस की जयंती के मौके पर किया गया था. रैली के दौरान उनके समर्थक राष्ट्रध्वज थामे नजर आए.

पत्रकारों ने जब अधिकारी से उनके मौजूदा राजनीतिक रुख के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, 'हमारे देश का संविधान जनता द्वारा, जनता के लिए, जनता का शासन की बात कहता है. मैं बंगाल का, भारत का पुत्र हूं और अपने राज्य की जनता की सेवा करता रहूंगा.”
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज