लाइव टीवी

स्विट्जरलैंड सरकार की बड़ी कार्रवाई, नीरव मोदी के चार बैंक खाते सीज़

News18Hindi
Updated: June 27, 2019, 12:33 PM IST
स्विट्जरलैंड सरकार की बड़ी कार्रवाई, नीरव मोदी के चार बैंक खाते सीज़
लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने नीरव मोदी की जमानत याचिका चौथी बार खारिज कर दी है.

स्विट्जरलैंड सरकार की इस कार्रवाई के बाद नीरव मोदी को कुल 6 मिलियन डॉलर की संपत्ति से हाथ धोना पड़ा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 27, 2019, 12:33 PM IST
  • Share this:
पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ हजारों करोड़ रुपये का लोन फ्रॉड करने के आरोपी और मनी लॉन्ड्रिंग केस के भगोड़ा साबित किए जा चुके हीरा कारोबारी नीरव मोदी पर स्विट्जरलैंड सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है. सरकार ने नीरव मोदी के चार बैंक खातों को सीज़ कर दिया है. स्विट्जरलैंड सरकार की ओर से की गई इस कार्रवाई के बाद नीरव मोदी से जुड़े लोग भी उनके अकाउंट में जमा रुपयों का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे. सरकार की इस कार्रवाई के बाद नीरव मोदी को कुल 6 मिलियन डॉलर की संपत्ति से हाथ धोना पड़ा है.

बता दें कि भारत के सरकारी बैंकों से करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी करके लंदन भागे हीरा कारोबारी नीरव मोदी पर शिकंजा कसता दिख रहा है. लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने नीरव मोदी की जमानत याचिका चौथी बार खारिज कर दी है. ऐसे में उसे अभी लंदन की जेल में और दिन गुजरना होगा.

इसे भी पढ़ें :- लंदन की जेल में ही रहेगा नीरव मोदी, अदालत ने चौथी बार ठुकराई जमानत याचिका


नीरव मोदी कई बैंकों को 13 हजार करोड़ रुपये का चूना लगाकर पिछले करीब 15 महीने से फरार है. नीरव मोदी की साजिश की वजह से पीएनबी बैंक की आर्थिक रफ्तार रुक गई थी. शेयर लुढ़क कर जमीन पर पहुंच गया था. मामले का खुलासे होते ही हड़कंप मच गया था. इस बीच नीरव मोदी देश छोड़कर फरार हो गया. लेकिन तभी से भारत सरकार नीरव मोदी स्वदेश लाने की कोशिश में जुट गई थी. नीरव मोदी की लंदन में गिरफ्तारी हुई थी.

इसे भी पढ़ें :- PNB स्कैम: भारत के आगे झुका एंटीगा, रद्द करेगा मेहुल चोकसी की नागरिकता

गौरतलब है कि पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) को लगभग 14 हजार करोड़ रुपये का चूना लगाकर विदेश फरार होने वाले हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी की मुश्किलें भी बढ़ने वाली हैं. भारत के दवाब में एंटीगा सरकार ने मेहुल चोकसी की नागरिकता को खारिज करने का फैसला किया है. एंटिगा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने कहा, 'मेहुल चोकसी को पहले यहां की नागरिकता मिली हुई थी. लेकिन अब इसे रद्द किया जा रहा है और भारत प्रत्यर्पित किया जा रहा है. हम किसी भी अपराधी को अपने देश में सुरक्षित ठिकाना नहीं देंगे.' बता दें कि चोकसी को भारत वापस लाने के लिए प्रत्यर्पण प्रक्रिया मार्च में शुरू हुई थी.इसे भी पढ़ें :- मेहुल चौकसी को सताने लगा गिरफ्तारी का डर, कहा- भागा नहीं इलाज के लिए आया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 27, 2019, 12:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर