• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • SWORDS WAVED WITH KHALISTANI SLOGANS ON THE ANNIVERSARY OF OPERATION BLUE STAR PUNSS

ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर खालिस्तानी नारों के साथ लहराई तलवारें, भिंडरावाला का बेटा भी पहुंचा गोल्डन टैंपल

सांकेतिक तस्वीर

इस दौरान कई गर्म ख्याली सिख खालिस्तान जिंदाबाद (Khalistan Zindabad) व भिंडरावाला के पोस्टरों के साथ भी हरमंदिर साहिब पहुंचे थे, जिन्होंने खालिस्तान जिंदाबाद के नारों के साथ तलवारें भी लहराईं.

  • Share this:
    चंडीगढ़. पंजाब की गुरू नगरी अमृतसर में ऑपरेशन ब्लू स्टार (Operation Blue Star) की 37वीं बरसी के  मौके पर घल्लूघारा दिवस (Ghallughara Day) मनाया गया और 1984 में हुई सैन्य कार्रवाई के दौरान मारे गए सिखों को श्रद्धांजलि भी दी गई. इस दौरान कई गर्म ख्याली सिख खालिस्तान जिंदाबाद (Khalistan Zindabad) व भिंडरावाला के पोस्टरों के साथ भी हरमंदिर साहिब पहुंचे थे, जिन्होंने खालिस्तान जिंदाबाद के नारों के साथ तलवारें भी लहराईं. इस दौरान लाल किला हिंसा का आरोपी दीप सिद्धू (Deep Sidhu) और भिंडरावाला का बेटा भाई ईश्वर सिंह (Bhai Ishwar Singh son of Bhindrawala) भी वहां पहुंचा था.

    सुबह अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह जब कौम के नाम संदेश जारी करने लगे तो दल खालसा, अकाली दल अमृतसर और सरबत खालसा के कार्यकर्ताओं ने खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए. वे तब तक नारे लगाते रहे जब तक जत्थेदार अकाल तख्त अपना संदेश देते रहे. इस दौरान जरनल सिंह भिंडरावाला के पुत्र भाई ईश्वर सिंह भी वहां पहुंचे थे. शिरोमणि कमेटी और पंथक संगठनों ने उन्हें सम्मानित किया. इस बार कई पुराने खालिस्तान समर्थक और आतंकी गतिविधियों में शामिल रहे व्यक्ति भी अकाल तख्त पर मौजूद थे. कार्यक्रम में लाल किला हिंसा केस के मुख्य आरोपी दीप सिद्धू भी पहुंचे थे,

    क्या कहा दीप सिद्धू ने
    दीप सिद्धू ने कहा कि कि उसने कभी खालिस्तान की मांग नहीं की. 37 साल बाद भी इतिहास सच का आईना दिखा रहा है. दरबार साहिब पर गोलियां चलाई गईं और श्री गुरु ग्रंथ साहिब घायल हुए, कई बेगुनाह बच्चों व लोगों की भी दौरान जान चली गई.  कांग्रेस हो या भाजपा किसी ने भी न्याय नहीं दिलवाया.

    किसान आंदोलन कि बात करते हुए सिद्धू ने कहा कि लोकतंत्र में हक के लिए शांतमय प्रदर्शन की जगह होनी चाहिए कृषि कानून राज्य का विषय है, इसे केंद्र ने किसानों पर थोपा  होता तो ये हालात नहीं होते. इस दौरान सुरक्षा की लिहाज से हरिमंदिर साहब में भारी मात्रा में सादी वर्दी में पुलिस भी तैनात की गई थी. शहर के कई नाकों पर पुलिस के आलाधिकारी भी खुद मौजूद रहे.
    Published by:Ashu
    First published: