Covid 19: किसने कहा, हम 500ml प्लाज़्मा ही नहीं खून की आखिरी बूंद भी देने को तैयार

Covid 19: किसने कहा, हम 500ml प्लाज़्मा ही नहीं खून की आखिरी बूंद भी देने को तैयार
File Photo

कुछ दिन पहले मौलाना साद ने एक आडियो जारी कर सभी जमातियों से प्लाज़्मा देने की अपील की थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2020, 4:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. डॉक्टरों ने हमे बताया है कि जो भी कोरोना पॉजिटिव था और अब ठीक हो गया है, ऐसा इंसान अगर 500 एमएल प्लाज़्मा (Plasma) देगा तो इससे दूसरे मरीज की जान बचाई जा सकती है. अगर ऐसा है तो हमारा एक-एक जमाती न सिर्फ 500 एमएल प्लाज़्मा बल्कि अपने खून की एक-एक बूंद देने को तैयार है. हमारे हर उस जमाती (Jamati) तक यह मैसेज पहुंचा दिया गया है, जो ठीक हो चुके हैं और अभी क्वारंटाइन सेंटर में ही हैं. प्लाज़्मा देने का सिलिसला शुरु हो गया है. 200 जमाती के लिए दिल्ली सरकार (Delhi Government) से भी बात हो गई है. यह कहना है तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) से जुड़े और क्वारंटाइन सेंटर में रुके जमातियों की देखरेख कर रहे हाफिज़ समी का. कुछ दिन पहले मौलाना साद ने एक आडियो जारी कर सभी जमातियों से प्लाज़्मा देने की अपील की थी.

जमातियों के प्लाज़्मा देने पर यह बोले सीएम अरविंद केजरीवाल

तबलीगी जमात के 200 से ज़्यादा लोगों ने मदद के लिए हाथ बढ़ाए हैं. यह सभी वो लोग जो कोरोना से संक्रमित थे, लेकिन अब ठीक हो गए हैं. सभी लोगों को प्लाज़्मा देने के लिए बुलाया जाएगा. सीएम केजरीवाल ने पिछले दिनों कहा था, ‘हर धर्म के लोग प्लाज्मा देकर एक दूसरे की जान बचाना चाहते हैं. मेरे मन में विचार आया कि हो सकता है कि किसी मुसलमान का प्लाज्मा हिंदू की जान बचाए. हो सकता है किसी हिंदू का प्लाज्मा मुसलमान की जान बचाए. भगवान ने जब धरती बनाई थी तब इंसान बनाए थे. प्लाज्मा धर्म देखकर नहीं बचाएगा.'



हरियाणा के झज्जर एम्स में भी प्लाज़्मा देने को तैयार हैं मरीज
रविवार को एम्स झज्जर में कोरोना सर्विस की चेयरपर्सन डॉ. सुषमा ने कहा था कि ठीक हुए कुछ मरीजों से उनका ब्लड डोनेट करने की अपील की थी. वे मान गए हैं. अब वो इस तैयारी में जुटे हैं कि आखिर कैसे इनसे सैंपल लिए जाएं जिससे कि प्लाज्मा थेरेपी में ये काम आ सके.'

इंदौर में डॉ इजहार मोहम्मद मुंशी और डॉ इकबाल कुरैशी ने दिया प्लाज़्मा

इंदौर में भी प्लाज्मा देने वाले दो डॉक्टरों डॉ इजहार मोहम्मद मुंशी और डॉ इकबाल कुरैशी के नाम सामने आए हैं. दोनों ने वायरस के संक्रमण से पूरी तरह ठीक होने के 14 दिन बाद शहर के अरबिंदो अस्पताल में 500-500 एमएल प्लाज्मा डोनेट किया. इनका प्लाज्मा आईडीए के इंजीनियर कपिल भल्ला, प्रियल जैन और अनीश जैन को चढ़ाया गया है. यूपी में डॉ. तौफीक और उमाशंकर ने भी कोरोना वायरस से ठीक होने के बाद प्लाज़्मा डोनेट किया है.

संघ प्रमुख भागवत ने की यह अपील

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को अपील करते हुए कहा है कि यदि कोई भय से या क्रोध के वश में आकर कुछ गलत कर देता है तो उससे पूरे समुदाय को जोड़कर उससे दूरी बनाना ठीक नहीं है. उन्‍होंने कहा कि ऐसे लोगों की कोई कमी नहीं है जो दूसरों को उकसाते हैं. उकसाना क्रोध को जन्म देता है और क्रोध गलतफहमी पैदा करता है. हम जानते हैं कि ऐसी ताकते हैं जो इससे लाभान्वित होती हैं. वे ताकतें ऐसा ही प्रयास कर रही हैं. ऐसे में हमें सजग रहना होगा.

कांग्रेस के प्रवक्ता बोले- यही हमारे हिन्दुसतान की पहचान है

इस बारे में कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी का कहना है, “धर्म-जाति कोई भी हो उसमे हर तरह के लोग होते हैं. यह बात सही है कि जमात से जुड़े कुछ लोगों से गलती हुई. कई बार कहने के बाद भी सामने नहीं आए और अपने साथ-साथ देश का भी नुकसान किया. लेकिन दूसरी ओर ऐसे लोग भी हैं जो अपना प्लाज़्मा देकर दूसरों की जान बचा रहे हैं. एक मिसाल कायम कर रहे हैं. यही हमारे हिन्दुस्तान की पहचान भी है. बुरे लोगों के बजाए हमे अच्छे लोगों की चर्चा ज़्यादा करनी चाहिए.”

चर्चा उनकी भी हो जो अच्छा काम कर रहे हैं

उर्दू डिपार्टमेंट के चेयरमैन डॉ. राहत अबरार का इस बारे में कहना है कि जो गलत हो तो उसे गलत कहना चाहिए. जिससे वो अपनी गलती को सुधार ले. लेकिन जो सही काम करे तो उसकी भी चर्चा होनी चाहिए. जैसा जमातियों के साथ हुआ. अगर कमियों को उजागर किया तो आज उनके अच्छे काम को भी लोगों तक पहुंचाना चाहिए.

ये भी पढ़ें-
Lockdown: इसलिए ज़ूम ऐप पर क्लास और मीटिंग के दौरान बढ़ जाता है हैकिंग का खतरा

कोविड 19: कोरोना वॉरियर डॉक्टर के खाते से जामताड़ा के साइबर ठगों ने पार कर दिए 14 लाख रुपये
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज