महबूबा बोलीं- देश विरोधी कह लो लेकिन खूनखराबा रोकने को पाक से बातचीत जरूरी

महबूबा बोलीं- देश विरोधी कह लो लेकिन खूनखराबा रोकने को पाक से बातचीत जरूरी
जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (File Photo)

महबूबा मुफ्ती का बयान ऐसे समय में आया है जब जम्‍मू कश्‍मीर में पिछले कुछ दो दिनों में सुरक्षाबलों पर दो आतंकी हमले हुए हैं. इन हमलों में छह जवान शहीद हुए हैं.

  • Share this:
जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को भारत-पाकिस्तान वार्ता की जरूरत पर जोर दिया. उन्होंने साथ ही कहा कि टीवी चैनलों द्वारा उनकी इस अपील को 'राष्ट्र विरोधी' करार दिया जाएगा.

महबूबा ने ट्वीट किया, 'अगर हम (राज्य में) रक्तपात बंद करना चाहते हैं तो पाकिस्तान के साथ वार्ता जरूरी है. मुझे पता है कि आज रात समाचार प्रस्तोताओं द्वारा मुझे राष्ट्र विरोधी बताया जाएगा लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. जम्मू एवं कश्मीर के लोग खामियाजा भुगत रहे हैं. हमें बात करनी चाहिए क्योंकि युद्ध कोई विकल्प नहीं है.'

महबूबा ने जम्‍मू कश्‍मीर विधानसभा में कहा, 'हमने पाकिस्‍तान के साथ जितने भी युद्ध लड़ें हैं वे सभी जीते हैं लेकिन फिर भी बातचीत के अलावा और कोई रास्‍ता नहीं है. कब त‍क हमारे जवान और नागरिक मरते रहेंगे. सोचकर हैरान हूं कि यदि अटलजी आज बस से लाहौर जाते और बातचीत के बारे में बात करते तो उन्‍हें कुछ मीडिया वाले क्‍या कहते. दुर्भाग्‍य की बात है कि कुछ मीडिया वालों ने ऐसा माहौल बना दिया है कि यदि हम बातचीत करते हैं तो हमें देश विरोधी बना दिया जाता है.



महबूबा मुफ्ती के बयान की प्रतिक्रिया में बीजेपी के महासचिव राम माधव ने CNN-News18 को बताया, 'आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ कैसे चल सकते हैं. आतंकवाद रोकना होगा. भारत कभी भी बातचीत से भागा नहीं है.'
मुख्यमंत्री की यह अपील राज्य में आतंकवादी गतिविधियों के बढ़ने के साथ ही भारतीय और पाकिस्तानी सेनाओं के बीच सीमा पर लगातार जारी संघर्ष के बीच आई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading