Tamil Nadu Assembly Election 2021: लगातार तीसरी बार कोलाथुर सीट से जीते एम. के. स्टालिन

डीएमके के अधयक्ष एम. के. स्टालिन (फ़ाइल फोटो)

डीएमके के अधयक्ष एम. के. स्टालिन (फ़ाइल फोटो)

Tamil Nadu Assembly Election 2021: तमिलनाडु विधानसभा चुनाव 2021 में एम. के. स्टालिन ने कोलाथुर विधानसभा सीट से जीत हासिल की है.

  • Share this:

चेन्नई. तमिलनाडु विधानसभा चुनाव 2021 में एम. के. स्टालिन ने कोलाथुर विधानसभा सीट से लगातार तीसरी बार जीत हासिल की है. उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी और अन्नाद्रुमक के वरिष्ठ सदस्य आदि राजाराम को 70384 वोटों के अंतर से हरा दिया है.



तमिलनाडु की राजनीति में एम. के. स्टालिन का नाम दिग्गज नेताओं में शामिल है. वे तमिलनाडु के पांच बार के मुख्यमंत्री रहे एम. करुणानिधि और उनकी दूसरी पत्नी दयालु अम्मल के बेटे हैं. वर्तमान में एम.के. स्टालिन द्रमुक (डीएमके) पार्टी के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं.



एम. के. स्टालिन के राजनीतिक करियर पर एक नजर:

1967 में एम. के. स्टालिन का राजनीतिक करियर 14 साल की उम्र में शुरू हुआ. 1967 में उन्होंने डीएमके के लिए चुनाव प्रचार का काम किया.
1973 में स्टालिन को डीएमके की जनरल कमेटी के लिए चुना गया.

1976 में वे आपातकाल के दौरान मीसा अधिनियम के तहत गिरफ्तार किए गए और उन्होंने पुलिस की यातना झेली.

1984 में स्टालिन द्रमुक की युवा शाखा के सचिव चुने गए. उन्हें थाउजेंड लाइट्स विधानसभा क्षेत्र से चुनाव में हार का सामना करना पड़ा.



1989 में स्टालिन थाउजेंड लाइट्स निर्वाचन क्षेत्र पहली बार विधायक चुने गए. उन्होंने अन्नाद्रमुक की थंबीदुरई के खिलाफ बड़ी जीत हासिल की.

1991 में स्टालिन को थाउजेंड लाइट्स निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव में हार का मुंह देखना पड़ा.



Youtube Video


1996 में स्टालिन चेन्नई के मेयर चुने गए.

1996 में स्टालिन फिर से थाउजेंड लाइट्स निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव जीते और तमिलनाडु विधानसभा में कदम रखा.

2001 में स्टालिन लगातार दूसरी बार चेन्नई के मेयर निर्वाचित हुए.

2001 में स्टालिन तीसरी बार थाउजेंड लाइट्स विधानसभा सीट से विधायक चुने गए.

2006 में स्टालिन चौथी बार चेन्नई के थाउज़ेंड लाइट्स निर्वाचन क्षेत्र से विधायक निर्वाचित हुए. इस बार वे ग्रामीण विकास मंत्री भी बने.

2009 में स्टालिन तमिलनाडु के पहले उपमुख्यमंत्री बने.

2011 स्टालिन ने चेन्नई के कोलाथुर निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा और वहाँ से विधायक बने.

2016 में स्टालिन दूसरी पार चेन्नई के कोलाथुर निर्वाचन क्षेत्र से विधायक चुने गए और इस बार वे तमिलनाडु विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष बने.

2017 में स्टालिन को द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष चुना गया.

2018 में पार्टी के अध्यक्ष एम. करुणानिधि के निधन के बाद स्टालिन द्रमुक के अध्यक्ष निर्वाचित हुए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज