जल्लीकट्टू विधेयक को राष्ट्रपति की मंजूरी, पन्नीरसेल्वम ने मोदी का शुक्रिया अदा किया

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम ने कहा कि जल्लीकट्टू आयोजित करने के लिए अध्यादेश की जगह लाए गए विधेयक को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मंजूरी मिल गई है.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम ने कहा कि जल्लीकट्टू आयोजित करने के लिए अध्यादेश की जगह लाए गए विधेयक को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मंजूरी मिल गई है.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम ने कहा कि जल्लीकट्टू आयोजित करने के लिए अध्यादेश की जगह लाए गए विधेयक को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मंजूरी मिल गई है.

  • Share this:
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने कहा कि जल्लीकट्टू आयोजित करने के लिए अध्यादेश की जगह लाए गए विधेयक को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मंजूरी मिल गई है और उन्होंने राज्य में इस खेल के आयोजन के प्रति समर्थन के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद दिया. मोदी को लिखे पत्र में पन्नीरसेल्वम ने कहा कि उनकी सरकार ने शुरू में अध्यादेश लाया था और बाद में राज्य विधानसभा ने सर्वसम्मति से इसकी जगह विधेयक पारित किया.



उन्होंने कहा कि विधेयक को राज्यपाल विद्यासागर राव ने राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए भेजा और 31 जनवरी 2017 को राष्ट्रपति ने इसे मंजूरी दे दी.  पत्र में उन्होंने कहा कि तमिलनाडु की सरकार और लोगों की तरफ में राज्य में जल्लीकट्टू के आयोजन के समर्थन के लिए एक बार फिर आपका शुक्रिया अदा करता हूं.



बता दें कि तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम ने शुक्रवार को कहा था कि जल्लीकट्टू के समर्थन में मरीना में एक हफ्ते तक चले प्रदर्शन में अनेक असामाजिक तत्व घुस आए थे जिनका मकसद प्रदर्शन को मूल उद्देश्य से भटकाना था. विधानसभा में विपक्ष के नेता एम.के. स्टालिन की ओर से प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज के मामले पर स्पष्टिकरण देने की मांग पर पन्नीरसेल्वम ने कहा कि विभिन्न संगठन और असमाजिक तत्व जल्लीकट्टू प्रदर्शन में घुस आए थे और इनका मकसद प्रदर्शन को मूल उद्देश्य से भटकाना था.





 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज